Home » इंडिया » Kerala tragedy: five members of temple management surrendered
 

केरल हादसा: तेज आवाज वाले पटाखों पर हाईकोर्ट की रोक

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 April 2016, 16:48 IST

केरल के कोल्लम जिले के मंदिर में हुए हादसे के मामले में मंदिर प्रबंध समिति पर शिकंजा कस गया है. पुत्तिंगल देवी मंदिर प्रबंधन समिति के सात सदस्यों ने मंगलवार को आत्मसमर्पण कर दिया.

पुलिस ने अब तक 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जिनमें मंदिर प्रबंध समिति के सात सदस्य भी शामिल हैं. इस मामले में पुलिस ने 30 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था. 

पढ़ें:कोल्लम में मंदिर और केरल में चुनाव न होता तो भी क्या मोदी वहां जाते?

हादसे में अब तक 112 लोगों की मौत हो चुकी है. मंदिर न्यास के अध्यक्ष जयलाल, सचिव जे कृष्णन कुटटी, शिवप्रसाद, सुरेंद्रन पिल्लई और रविंद्रन पिल्लई ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है.

मंदिर प्रबंध समिति के सदस्यों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी थी. जिसके बाद उन्होंने परवूर के पास कप्पिल में एक मंदिर के सामने पहुंचकर सरेंडर कर दिया. पुत्तिंगल देवी मंदिर में हुए हादसे के बाद से आरोपी फरार चल रहे थे.

इस बीच मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने मंदिर प्रबंध समिति के सदस्यों समेत छह लोगों के खिलाफ हत्या की कोशिश के अलावा विस्फोटक पदार्थ कानून के तहत भी केस दर्ज किया है.

पढ़ें:कोल्लम मंदिर हादसे में पुलिस की जवाबदेही कौन तय करेगा?

तेज आवाज वाले पटाखों पर हाईकोर्ट की रोक

केरल हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मंदिर के आयोजनों में तेज धमाका करने वाले पटाखों के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है. कोल्लम हादसे के बाद ऐसे पटाखों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी.

हाईकोर्ट ने मामले पर सुनवाई करते हुए तेज आवाज करने वाले पटाखों के इस्तेमाल पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है. अदालत ने सभी पूजा स्थलों पर सूर्यास्त के बाद से लेकर सूर्योदय तक आतिशबाजी को प्रतिबंधित कर दिया है. 

इस बीच हाईकोर्ट ने कोल्लम हादसे की सीबीआई जांच को लेकर राज्य सरकार से राय मांगी है. रविवार को पुत्तिंगल देवी मंदिर में आतिशबाजी के दौरान पटाखों के गोदाम में चिंगारी गिर गई थी. जिसके बाद हुए विस्फोटों की चपेट में सैकड़ों श्रद्धालु आ गए थे.

पढ़ें:केरल के पुत्तिंगल मंदिर में भीषण आग, 105 श्रद्धालुओं की मौत


First published: 12 April 2016, 16:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी