Home » इंडिया » Kerala: You will cry after reading the forest officer's post on the cruelty done to Hathini
 

केरल : हथिनी के साथ की गई क्रूरता पर वन अधिकारी की पोस्ट पढ़कर रो पड़ेंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2020, 11:36 IST

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बुधवार को पलक्कड़ जिले में एक गर्भवती हथिनी की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का वादा किया है. गर्भवती हथिनी को पटाखे से भरा अनानास खिलाया गया था, जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी. विजयन ने कहा "गर्भवती हथिनी की हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी." उन्होंने कहा "वन विभाग मामले की जांच कर रहा है और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी''.

इस घटना के एक हफ्ते बाद भी अभी कोई पकड़ में नहीं आया है. जंगली हथिनी साइलेंट वैली के जंगल से भोजन की तलाश में पास के गांव में आ गई थी. जहां कुछ शरारती तत्वों ने उसे पटाखों से भरा अनानास खिलाया. कहा गया है कि ग्रामीण जंगली सूअरों के खिलाफ अपने खेतों की रक्षा के लिए इनका उपयोग करते हैं. पुलिस ने एक जांच शुरू की है और अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.


वन अधिकारियों का कहना है कि जब हथिनी ने फल खाया, तो पटाखों से उसके मुंह में विस्फोट हो गया, जिससे वह बुरी तरह घायल हो गई. एक रिपोर्ट के अनुसार एक ऐसी ही घटना अप्रैल में कोल्लम जिले में हुई थी, जिसमें हथिनी की मौत हो गई थी. अधिकारियों का कहना है कि "वह बहुत कमजोर थी और हम उसे शांत नहीं कर सके. हमने उसे कुछ दवा देने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे''. 

वन अधिकारी मोहन कृष्णन ने क्या लिखा था

एक वन अधिकारी मोहन कृष्णन ने इस पूरी घटना को अपने फेसबुक पर लिखा. उन्होंने लिखा ''उसने सभी पर भरोसा किया था. जब वह अनानास खा गई और कुछ देर बाद उसके पेट में यह फट गया, वह दर्द से परेशान हो गई. हथिनी अपने लिए नहीं बल्कि उसके पेट में पल रहे बच्चे के लिए परेशान हुई होगी, जिसे वह अगले 18 से 20 महीने में जन्म देने वाली थी.' कृष्णन जो घायल हथिनी की मदद करने वाली प्रारंभिक टीम का हिस्सा थे, उन्होने कहा कि उसने गांवों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया क्योंकि वह भलाई से भरी थी.

उन्होने लिखा ''अधिकारियों ने पानी से उसे लुभाने के प्रयास किया, दो अन्य हाथियों को नदी में उतारा, लेकिन शायद वह मरने के लिए नदी में आयी थी''. कृष्णन ने आगे लिखा ''मुझे लगता है कि उसकी छठी इंद्रिय थी. उसने हमें कुछ करने नहीं दिया''.

बुधवार को शाम 4 बजे वेल्लियार नदी में खड़े रहने के दौरान उनकी मौत हो गई. कृष्णन ने हथिनी की मौत पर दुख जताते हुए कहा '' उसे विदाई देने की जरूरत है, इसके लिए हम उसे एक जंगल में ले गए. उन्होंने कहा 'वह जलाऊ लकड़ी पर लेटी थी, उस भूमि में जहां वह खेलती थी और बड़ी हुई थी. उसका पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर ने बताया कि वह अकेली नहीं थी.''

प्रेग्नेंट हथिनी को खिलाया पटाखों से भरा अनानास, भड़के बॉलीवुड सेलेब्स

First published: 4 June 2020, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी