Home » इंडिया » Kerala youth tests Nipah positive, over 300 placed under quarantine
 

केरल ने निपाह वायरस की पुष्टि से मची खलबली, निगरानी में 300 लोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 June 2019, 8:38 IST

केरल के उत्तरी जिले कोझीकोड में निपाह वायरस के प्रकोप के एक साल बाद, केंद्रीय एर्नाकुलम में मंगलवार को वायरस के एक ताजा मामले की पुष्टि होने के बाद सरकार ने राज्य भर में अलाट जारी कर दिया है. राज्य सरकार द्वारा पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी को भेजे गए एक संदिग्ध मामले के नमूनों में वायरस की पुष्टि होने के बाद विशेष रूप से एर्नाकुलम, त्रिशूर और इडुक्की जिलों में हाई अलर्ट की स्थिति घोषित की गई है. जिस 23 साल के व्यक्ति में वायरस की पुष्टि हुई है वह मरीज एर्नाकुलम जिले के वडक्करेरा पंचायत का रहने वाला है.

वह पिछले महीने इडुक्की के थोडुपुझा में एक तकनीकी पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद नौकरी प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए त्रिसूर चला गया था, जहाँ वह चार सहपाठियों के साथ किराए के मकान में रह रहा था. एक मेडिकल बुलेटिन ने उनकी स्थिति को स्थिर बताया गया. अधिकारियों ने कहा कि 311 लोग, जो बीमार होने के बाद आदमी के संपर्क में थे, उन्हें देखरेख में रखा गया है. इंडेन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार उनमें से चार - कोच्चि के एक निजी अस्पताल की तीन नर्सें, जहां मरीज का इलाज चल रहा है, और एक सहपाठी - को कलमासरी, एर्नाकुलम के सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया है, जब उन्हें बुखार आया था और बेचैनी की शिकायत थी.

पिछले साल अध्ययनों ने पुष्टि की थी कि पहले पहचाने गए मामलों में फलों के चमगादड़ों से वायरस आया था. इस प्रकोप ने 17 लोगों की जान ले ली थी. अधिकारियों ने कहा कि राज्य के पशुपालन और वन विभागों ने ज़ूनोटिक वायरस के नवीनतम मामले के स्रोत की पहचान करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं, जो मुख्य रूप से जानवरों और मनुष्यों के बीच फैलता है.

निपाह मामले की पुष्टि करते हुए, केरल के स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने कहा कि घबराने की कोई वजह नहीं है क्योंकि राज्य सरकार तैयार है. वायरस के स्रोत की पहचान के लिए कदम उठाए गए हैं. उपचार के लिए आवश्यक दवा का पर्याप्त स्टॉक है. कोल्लम, कोच्चि, त्रिशूर और कोझीकोड मेडिकल कॉलेजों में अलगाव वार्ड तैयार किए गए हैं. सुरक्षाकर्मियों को सुरक्षात्मक गियर और मास्क दिए गए हैं, जिन्हें स्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षण दिया गया है. '

First published: 5 June 2019, 8:38 IST
 
अगली कहानी