Home » इंडिया » keshav prasad maurya tragetade shivpal yadav in mathura incidence
 

बीजेपी: मथुरा कांड के सरगना को शिवपाल यादव का संरक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2016, 11:53 IST
(एएनआई)

मथुरा के जवाहरबाग़ इलाके में हुई बड़ी हिंसा पर अब सियासी जंग शुरू हो चुकी है. यूपी बीजेपी के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश यादव सरकार पर आरोप लगाया है कि मथुरा में एसपी और दारोगा को मारने वालों से कैबिनेट मंत्री और सीएम के चाचा शिवपाल यादव के गहरे संबंध थे.

केशव मौर्य ने आरोप लगाया है कि शिवपाल यादव उन्हें संरक्षण दे रहे थे. मौर्या ने कहा कि शिवपाल के शह और संरक्षण पर ही जवाहरबाग में उपद्रवियों ने पुलिस अफसरों को अपनी गोलियों का निशाना बनाया.

यूपी बीजेपी अध्यक्ष मौर्य ने आरोप लगाया कि इस हिंसक आंदोलन की अगुवाई करने वाले रामवृक्ष यादव को यूपी के मंत्री शिवपाल यादव का पूरा संरक्षण हासिल था.

शिवपाल पर कार्रवाई की मांग

इसके साथ ही केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, "अखिलेश यादव के राज में यूपी में किसी तरह की कानून व्यवस्था नहीं रही है. इससे पहले कभी भी सरकार के संरक्षण में यूपी में इस तरह की बड़ी घटना नहीं हुई थी. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए और अपराधियों को संरक्षण देने के लिए अपने चाचा शिवपाल पर कार्रवाई भी करनी चाहिए."

मौर्या ने अखिलेश यादव सरकार से मांग की है कि सरकार पीड़ित परिवारों का मुआवजा बीस लाख से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये करे और उच्च स्तरीय जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए.

हिंसा की सीबीआई जांच की मांग

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा कि रामवृक्ष यादव अपने गुर्गों के साथ पिछले 28 महीने से वहां जमा था, किसने उन्हें राशन कार्ड और तमाम सरकारी सुविधाएं दीं.

बीजेपी नेता ने कहा कि वहां सुबह-शाम परेड और हथियारों की ट्रेनिंग होती थी और मथुरा पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही. इसी का नतीजा है कि हमने अपने एसपी और दारोगा को आज खो दिया है. श्रीकांत शर्मा ने कहा कि बीजेपी मथुरा हिंसा की सीबीआई जांच की मांग करती है.

First published: 4 June 2016, 11:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी