Home » इंडिया » Delhi: 10 thousand farmers going to march on parliament street along with workers
 

किसान-मजदूर संघर्ष रैली: सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे 10 हजार किसान, रामलीला मैदान से मार्च शुरू

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 September 2018, 10:53 IST
(Twitter)

देश के किसान अपनी मांगों को लेकर आज दिल्ली में इकट्ठे हुए. देश भर से आये करीब 10 हजार किसान, मजदूर, सर्विस सेक्टर के कर्मचारी और भूमिहीन कृषि मजदूर रैली रामलीला मैदान से मार्च शुरू कर चुके हैं. ऐसा पहली बार होगा जब किसानों और मजदूरों ने अपनी मांगों के लिए सरकार को एक साथ घेरने का फैसला लिया है.

ये रैली अधिक से अधिक नौकरियां, भूमिहीनों के लिए ज़मीन और कृषि उपज के लिए बेहतर कीमतों की अपनी मांग को लेकर आयोजित की गयी है. CITU, AIKS और AIAWU ने इस रैली को आयोजित किया है. पूरे देश से अलग अलग जगह से किसान और मजदूर इस रैली में शामिल होने आये हैं.

Teachers Day 2018: शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं देशभर के स्कूल, कैसे मनाएं टीचर्स डे ?

नासिक से आए अरुण पटनायक ने रात दिल्ली के रेलवे स्टेशन पर गुजारी. उन्होंने कहा, "इस रैली के लिए हर परिवार का एक प्रतिनिधि आया है. मेरे क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं ने कहा कि वे मेरी मांगों को रैली में रखेंगे.''

 

ये एकत्र हुए लोग पहले दिल्ली के रामलीला मैदान में इकट्ठा होंगे और वहां से प्रोटेस्ट के तौर पर संसद मार्ग तक पैदल मार्च करेंगे. इस रैली में शामिल होने वाले ज़्यादातर किसान मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और हरियाणा के हैं.

इस रैली को लेकर CITU के प्रतिनिधियों ने कहा, "अगर सरकार 99 प्रतिशत आबादी को सुनने से इंकार कर देती है, तो उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है और उसे हर हाल में हराया जाना चाहिए.''

गौरी लंकेश हत्‍याकांड: SIT ने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, परशुराम वाघमारे ही है गौरी लंकेश का कातिल

 

मध्य प्रदेश से आये एक किसान बाजू ने कहा, "ये पहली बार है कि देश में तीन प्रमुख वर्ग एक साथ आंदोलन कर रहे हैं.'' उन्होंने सरकार के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) के फैसले पर भी नाराज़गी जताई. कैबिनेट ने 4 जुलाई को खरीफ की फसल पर MSP बढ़ाने का फैसला किया था लेकिन किसान अभी भी इससे खुश नहीं है.

 

First published: 5 September 2018, 10:42 IST
 
अगली कहानी