Home » इंडिया » kishore-upadhyay i will not sing Vande Mataram forcfully.
 

'नहीं बाेलूंगा वंदे मातरम'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2017, 15:37 IST

वंदे मातरम को लेकर उत्तराखंड में भाजपा बीजेपी और कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है. आज उत्तराखंड के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा कि वो वंदे मातरम नहीं बोलेंगे, अगर भाजपा में हिम्मत हैं तो वो उन्हें राज्य से बाहर फेंक कर दिखाए. उन्होंने कहा कि वंदेमातरम कोई भाजपा की बपौती नहीं है .उपाध्याय ने कहा कि देश में वंदे मातरम गाने की परपंरा बहुत पुरानी रही है.और कांग्रेस पार्टी उसे बहुत लंबे समय से गा रही है.

उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय का कहना है कि भाजपा सरकार के मंत्री वंदे मातरम थोपने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने सवाल किया कि भाजपा बनने से पहले क्या लोग वंदे मातरम नहीं गाते थे? किशोर ने कहा कि हम लोग काफी वक्त से वंदे मातरम गा रहे हैं और इसके लिए किसी फरमान की ज़रूरत नहीं है. मैं भाजपा को चुनौती देता हूं कि मुझे वंदे मातरम ना बोलने पर उत्तराखंड से बाहर फेंक कर दिखाए.

कुछ दिन पहले उत्तराखंड सरकार के राज्यमंत्री धन सिंह रावत ने बयान दिया था कि अगर राज्य में रहना है तो उन्हें वंदे मातरम कहना होगा .जिसके बाद से पूरे सूबे में सियासी बवाल मचा हुआ है.

किशोर उपाध्याय कांग्रेस भवन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि भाजपा हिंदुत्व का इस्तेमाल वोट की खेती के लिए करती है. उनके एक मंत्री ने वंदे मातरम पर बयान दिया और मुख्यमंत्री ने उसका समर्थन किया.

किशोर उपाध्याय पर तंज कसते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा अगर वो वंदे मातरम नहीं बोलना चाहते तो उनके ऊपर कोई जबरदस्ती नहीं है. जनता ने उन्हें इसका जवाब उन्हें चुनावों में दे दिया है. उनका बयान कांग्रेस की संस्कृति के बारे में बताता है.

First published: 14 April 2017, 15:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी