Home » इंडिया » The address of Prime Minister of India may be change
 

जानिए भारत के प्रधानमंत्री का क्यों बदल सकता है पता?

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2016, 11:35 IST
(फाइल फोटो)

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पता बदल सकता है. अभी प्रधानमंत्री सात रेस कोर्स रोड के सरकारी आवास पर रहते हैं, लेकिन जल्द ही यह पता दूसरे नाम में तब्दील हो सकता है. 

दरअसल नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) रेस कोर्स रोड का नाम बदलकर एकात्म मार्ग करने की तैयारी में है. नई दिल्ली से भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी यह प्रस्ताव लेकर आई हैं. 

9 सितंबर को मीनाक्षी लेखी ने भेजा प्रस्ताव

अगर प्रस्ताव पर मुहर लगती है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास का पता 7 रेस कोर्स रोड की जगह 7 एकात्म मार्ग हो जाएगा.

नई दिल्ली से सांसद होने के कारण मीनाक्षी लेखी एनडीएमसी की सदस्य भी हैं. उन्होंने 9 सितंबर को एनडीएमसी के पास प्रस्ताव भेजा था कि रेसकोर्स रोड का नाम बदलकर एकात्म मार्ग कर दिया जाए.

क्या है प्रस्ताव?

  • इस साल पूरा देश पंडित दीन दयाल उपाध्याय का जन्म शताब्दी वर्ष मना रहा है.
  • उनके एकात्म दर्शन को ध्यान में रखते हुए रेस कोर्स रोड का नाम बदल देना चाहिए.
  • इस रोड पर प्रधानमंत्री का निवास स्थान है. रेस कोर्स रोड नाम भारतीय संस्कृति से मेल नहीं खाता.
  • ऐसे में इसका नाम बदलकर एकात्म मार्ग हो, जिससे हर पीएम समाज के आखिरी व्यक्ति के बारे में सोच सके.
  • समाज के महान लोगों के प्रति सम्मान दिखाते हुए पहले भी उनके नाम पर सड़कों का नाम रखा गया है.
  • 12 जनवरी 1996 को कनॉट सर्कल का नाम बदलकर इंदिरा चौक रखा गया.
  • कनॉट प्लेस का नाम बदलकर राजीव गांधी चौक रखा गया था.
  • 26 फरवरी 2002 को कैनिंग रोड का नाम बदलकर माधव राव सिंधिया मार्ग हुआ.
  • 28 फरवरी 2015 को औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम रोड रखा गया.

आप ने जताया विरोध

इस प्रस्ताव के खिलाफ आम आदमी पार्टी खुलकर सामने आई है. दरअसल दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल एनडीएमसी के अध्यक्ष हैं, लेकिन स्वास्थ्य लाभ की वजह से वह एनडीएमसी की बैठक में नहीं शामिल हो सकेंगे.

दिल्ली के पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा ने चुटकी लेते हुए ट्वीट किया है, "यह अब आधिकारिक है कि 7 आरसीआर में एक आत्मा रहती है."

आप विधायक और एनडीएमसी सदस्य कमांडो सुरेंदर सिंह ने कहा है, "वहां पीएम आवास होने के साथ वायु सेना का स्टेशन भी है. परमवीर चक्र विजेता शहीद फ्लाइंग अफसर निर्मलजीत सिंह सेखों भी इसी वायु सेना स्टेशन में रह चुके हैं. उनके नाम पर ही मार्ग पहचाना जाना चाहिए. रेस कोर्स रोड का नाम बदलकर एकात्म मार्ग रखने की बजाए किसी शहीद सैनिक या स्वतंत्रता सेनानी के नाम पर रखा जाना चाहिए."

First published: 21 September 2016, 11:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी