Home » इंडिया » Know what happened withing 30 hours of Rs. 500-1000 currency notes
 

जानिए 500-1000 के नोट बंद होने के 30 घंटे के भीतर क्या हुआ

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 10 November 2016, 12:52 IST

मंगलवार रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 1000-500 रुपये के उस वक्त तक बाजार में मौजूद करेंसी नोटों का चलन बंद करने की घोषणा के बाद देश के साथ पड़ोसी मुल्कों में भी अफरातफरी का माहौल बना है. भले ही हकीकत में समस्या उतनी बड़ी नहीं है लेकिन लोगों ने दिमागी रूप से इसे परेशानी बनाते हुए बढ़ाचढ़ा दिया है. हालांकि यह जानना सबसे दिलचस्प है कि इस घोषणा के 30 घंटे के भीतर क्या हुआ.

दोगुनी कीमत पर नगद बिका सोना

जैसे ही कालाधन रखने वाले लोगों को पता चला कि 1000-500 के नोट बंद हो चुके हैं, वे अपने पास मौजूद नोटों को ठिकाने लगाने के तरीके ढूंढ़ने लगे. अब चूंकि सोना सबसे खरा और नगदी के बराबर ही माना जाता है, लोगों ने इसे खरीदने को प्राथमिकता दी.

विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी की मानें तो मंगलवार रात से आलम यह हो गया कि देश भर के तमाम शहरों में जमकर सोने की बिक्री हुई. सोने की एकाएक बढ़ती मांग के साथ ही इसके विक्रेताओं ने कीमत भी बढ़ानी शुरू कर दी. बुधवार रात तक सोना 65 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम तक के भाव से बिका.

दिल्ली, गुड़गांव, लखनऊ, कानपुर, गुजरात, मुंबई, पुणे, केरल, इंदौर, पटना, कोलकाता, बंगलुरु समेत देश के प्रमुख शहरों के सर्राफा बाजार में जमकर कालेधन से सोने की खरीदारी की गई.

बिग-बाजार समेत मॉल्स-शोरूम में हुई जमकर बिक्री

मंगलवार को इस घोषणा के करीब दो घंटे बाद बिग बाजार ने अपने ग्राहकों को मैसेज भेजकर बताया कि उनका स्टोर आधी रात तक खुला रहेगा और लोग आकर खरीदारी कर सकते हैं. अपने पास पड़ी नगदी को ठिकाने लगाने के लिए लोगों ने बिग बाजार को चुना.

लेकिन बिग बाजार की इस योजना का लाभ मॉल्स-बाजार में खुली अन्य दुकानो-शोरूमों को भी हुआ. चूंकि विक्रेताओं का माल इस दौरान मुंहमांगी कीमतों पर बिक रहा था, उन्होंने ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाकर नगद ही माल बेचा. मेट्रो शहरों में शॉपिंग मॉल, डिपार्टमेंटल स्टोर, शोरूम देर रात तक मुनाफा कमाते रहे.

आईफोन-पिक्सल जैसे महंगे फोन जमकर बिके

इस फैसले का फायदा बाजार में मौजूद स्मार्टफोन शोरूमों को भी हुआ. बताया जा रहा है कि बुधवार देर रात तक एप्पल आईफोन, गूगल पिक्सल, सोनी एक्सपीरिया, आसुस समेत प्रमुख कंपनियों के प्रीमियम हैंडसेटों की जमकर बिक्री हुई. 

लोगों ने अपनी रकम को ठिकाने लगाने के लिए इन फोनों को खरीदने में भी खूब दिलचस्पी दिखाई.

इलेक्ट्रॉनिक्स शोरूम की भी चांदी

1000-500 के नोट बंद होनेे की खबर फैलते ही लोगों ने बड़े और महंगे इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स मसलन बड़ी स्क्रीन वाले एलईडी टेलीविजन, फ्रिज, एयर प्यूरीफायर, वाशिंग मशीन, म्यूजिक सिस्टम समेत ढेरों चीजों की खरीदारी की.

कई स्थानों पर नोट जलाए गए तो कई जगह लावारिस बैग मिले

अलग-अलग मीडिया से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सरकार द्वारा की गई इस ऐतिहासिक घोषणा के बाद कालाधन छिपाकर रखे कई लोगों को शुरुआत में यह समझ में ही नहीं आया कि वे क्या करें, इसलिए घबराहट में कई स्थानों पर नोटों को जलाने, लावारिस बैग मिलने की भी जानकारी सामने आई.

First published: 10 November 2016, 12:52 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी