Home » इंडिया » Know why petrol is selling Rs. 300 per litre in Tripura?
 

जानिए क्यों त्रिपुरा में बिक रहा है 300 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल?

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 July 2016, 17:26 IST

नॉर्थ ईस्ट के राज्य त्रिपुरा में शुक्रवार को पेट्रोल की कीमत 300 रुपये जबकि डीजल की 150 रुपये प्रति लीटर की आश्चर्यजनक कीमतों पर पहुंच गई. लेकिन क्या वजह है कि देश के किसी राज्य में पेट्रोल की कीमतें बाकी राज्यों की तुलना में चार गुना तक ऊंची हो गईं?

दरअसल त्रिपुरा राज्य में यह स्थिति पेट्रोल की पूरी सप्लाई न हो पाने के चलते हुई है. न केवल पेट्रोल बल्कि डीजल के लिए भी लोगों को तकरीबन तीन गुने दाम चुकाने पड़ रहे हैं. 

इसके पीछे का प्रमुख कारण असम और त्रिपुरा को जोड़ने वाला नेशनल हाईवे 8 (एनएच 8) है, जो भारी बारिश और उचित रख-रखाव के अभाव में खराब और ऊबड़-खाबड़ हो चुका है. खराब रास्ते के कारण राज्य में न केवल पेट्रोल बल्कि अन्य दैनिक उपभोग की चीजों की भी आपूर्ति प्रभावित हो गई है.

राज्य के नागरिकों के प्रभावित होने से इस मामले ने राजनीतिक रंग भी ले लिया है. एनएच की मरम्मत न होने के चलते विपक्षी दलों और स्थानीय निवासियों ने सड़क पर आकर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है. 

इस बीच सड़क की मरम्मत का काम शुरू भी किया गया लेकिन भारी बारिश के चलते इसे बीच में ही बंद करना पड़ा.

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक नेशनल हाईवे के खस्ताहाल होने के चलते गोवाहाटी में माल से लदे हुए ट्रक वहां नहीं पहुंच पा रहे हैं. सड़क मार्ग के अलावा रेलमार्ग की भी बुरी स्थिति है. त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और असम के बीच रेलमार्ग खराब है.

ईंधन और दैनिक उपभोग के वस्तुओं की आवक न होने से मांग बढ़ती जा रही है. परिणामस्वरूप स्थानीय दुकानदार महंगा सामान बेच रहे हैं और ग्राहकों को मजबूरी में खरीदना पड़ रहा है.

नेशनल हाईवे के ठीक होने से ही यह समस्या दूर हो सकती है. इसलिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से इसे ठीक कराने की मदद मांगी है. त्रिपुरा सरकार द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि केंद्र को एमईएस (मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विस) देकर जल्द से जल्द रास्ते को सही करवाना चाहिए.

हालांकि जब तक सड़क या रेल मार्ग दुरुस्त नहीं हो जाते, यहां  की स्थिति संभलने की बजाए और बुरी होने की ही आशंका जताई जा रही है. पड़ोसी राज्य भी मदद करने की स्थिति में हों तो भी हाईवे की जरूरत तो पड़ेगी ही.

First published: 30 July 2016, 17:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी