Home » इंडिया » krishna patel apna dal withdraw collision nda
 

अनुप्रिया की मां कृष्णा पटेल के 'अपना दल' धड़े ने बीजेपी से नाता तोड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 July 2016, 15:54 IST
(पत्रिका)

केंद्र की नरेंद्र मोदी मंत्रिपरिषद के दूसरे विस्तार में सबसे कम उम्र की मंत्री बनीं अपना दल की सांसद अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल ने बीजेपी से गठबंधन तोड़ने का एलान कर दिया है. अपने समर्थकों को विश्वास में लेने के लिए 21 अगस्त को वाराणसी में वे एक रैली भी करेंगी.

उत्तर प्रदेश की क्षेत्रीय पार्टी अपना दल की नींव सोनेलाल पटेल ने 1995 में रखी थी. 2009 में उनके निधन के बाद उनकी पत्नी कृष्णा पटेल पार्टी की अध्यक्ष बनीं, जबकि बेटी अनुप्रिया पटेल राष्ट्रीय महासचिव बनी थीं.

बीते एक साल से वर्चस्व को लेकर मां-बेटी के बीच विवाद चल रहा है. अपना दल उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल इलाके में कुर्मी जाति (ओबीसी) पर पकड़ रखने वाली पार्टी मानी जाती है. 

अपना दल के प्रवक्ता आरबी सिंह पटेल ने कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने बीजेपी से अपना गठबंधन तोड़ने का फैसला किया है, क्योंकि बीजेपी गठबंधन धर्म निभाने में असफल रही है.

यहां गौर करने की बात है कि बीजेपी ने अनुप्रिया को अपना दल से निकाल दिए जाने के निर्णय की अनदेखी करते हुए राज्यमंत्री बनाया है.

पटेल ने कहा कि बीजेपी से संबंध तोड़ने का निर्णय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में लिया गया और इसकी घोषणा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में पार्टी अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने की है.

आरबी सिंह पटेल ने आगे कहा कि हम 2017 में विधानसभा चुनाव लड़ेंगे और गठबंधन तोड़ने के बाद वाराणसी में 21 अगस्त को एक विशाल रैली का आयोजन किया जाएगा.

अनुप्रिया पटेल 2012 के विधानसभा चुनाव में वाराणसी की रोहनियां सीट से विधायक चुनी गई थीं. लेकिन 2014 में बीजेपी के साथ गठबंधन होने के बाद उन्होंने विधानसभा से इस्तीफा देकर मिर्जापुर संसदीय सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा और विजयी हुईं.

अपना दल को इसके अलावा प्रतापगढ़ सीट पर भी कामयाबी मिली थी, जहां पार्टी के उम्मीदवार हरिवंश सिंह ने चुनाव जीता था. मोदी मंत्रिपरिषद विस्तार के बाद अनुप्रिया पटेल को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया है.

First published: 8 July 2016, 15:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी