Home » इंडिया » kulbhushan jadhav matter sushma swaraj statement in parliament after meats kulbhushan mother and wife
 

कुलभूषण विवाद: सुषमा स्वराज ने पाक को दिखाया आईना, लोकसभा में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 December 2017, 13:03 IST

पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के परिवार के साथ पाकिस्तान द्वारा की गई बदसलूकी से पूरा देश नाराज है. संसद से लेकर सड़क तक इस मुद्दे पर बहस जारी है. लोग पाकिस्तान पर अपना रोष प्रकट कर रहे हैं. संसद में भी इस मुद्दे पर हो-हल्ला मचा हुआ है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मुद्दे पर संसद में बयान दिया. वहीं लोकसभा में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगे.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पहले इस मुद्दे पर राज्यसभा में बयान दिया फिर लोकसभा में भी पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाई. उन्होंने कहा कि ये खेद का विषय है कि मुलाकात में इस तरह का व्यवहार किया गया और पाकिस्तान ने कोई मानवता नहीं दिखाई. सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान ने इस मुलाकात को प्रोपेगेंडा बनाया.

विदेश मंत्री ने कहा, "जाधव की मां सिर्फ साड़ी पहनती हैं, उनके भी कपड़े भी बदलवा दिए गए. मीडिया को मां और पत्नी के नजदीक आने दिया गया, जो हमारी शर्तों के खिलाफ था. मुलाकात से लौटने के बाद मां-पत्नी ने बताया कि कुलभूषण दबाव में हैं. उनके कैद करने वालों ने जो उन्हें बोलने के लिए कहा था जाधव सिर्फ वही बोल रहे थे. पाकिस्तान जाधव की मां-पत्नी के जूतों के साथ कुछ शरारत कर सकता है. इस मीटिंग में सिर्फ मानवाधिकार के नियमों का उल्लंघन ही हुआ है."

सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान में जाने से पहले एयरपोर्ट पर दो जगह मां और पत्नी की चेकिंग हुई, तो क्या जब कोई चिप नहीं दिखाई दी. पूरा सदन पाकिस्तान के इस व्यवहार की निंदा करता है. सुषमा स्वराज ने बताया कि कुलभूषण ने अपनी मां को देखते ही सबसे पहले पूछा कि बाबा कैसे हैं क्योंकि जैसे ही उसने मां को बिना मंगलसूत्र और चूड़ी के देखा उसे शक हुआ कि कहीं कुछ अशुभ ना हो गया हो.

कुलभूषण ने सबसे पहला सवाल पूछा कि बाबा कैसे हैं. सुषमा ने कहा कि दोनों सुहागनों को एक विधवा की तरह पेश किया गया. जाधव की मां अपने बेटे से मराठी में बात करना चाहती थी. जब वो बात करती थी, तो इंटरकोम को बंद किया गया.

इस मुद्दे पर विपक्ष ने भी सरकार का समर्थन किया और लोकसभा में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए गए. राज्यसभा में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि जाधव पर जो भी आरोप लगाए गए हैं, वो झूठे और फर्जी हैं.

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पाकिस्तान में कोई लोकतंत्र नहीं है, हम पाकिस्तान को अच्छी तरीके से जानते हैं. जाधव की मां-पत्नी के साथ जो भी हुआ है, वो अपमान पूरा देश का है. कांग्रेस के अलावा अन्य सभी पार्टियों ने भी सरकार के बयान का समर्थन दिया.

लोकसभा में भी विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस घटना पर पाकिस्तान की निंदा की. कांग्रेस ने कुलभूषण जाधव मुद्दे पर पाकिस्तान से माफी की मांग की है, इसके अलावा भारत सरकार से पाकिस्तान के खिलाफ कड़े एक्शन की मांग की है.

गौरतलब है कि सोमवार को कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी ने इस्लामाबाद जाकर उनसे मुलाकात की थी. जिसके बाद उन दोनों से बदसलूकी की बात सामने आई थी. पाकिस्तान ने सुरक्षा के नाम पर कुलभूषण की पत्नी-मां के मंगलसूत्र, बिंदी, कपड़े तक को बदलवा दिया था. वहीं जब कुलभूषण की मां अपने बेटे से अपनी भाषा मराठी में बात करने की कोशिश करती थी, उन्हें बार-बार टोक दिया जाता था. यहां तक की उनके जूते भी नहीं लौटाए गए.

पाकिस्तान ने उनकी पत्नी की उतरवाई गई जूतियां फॉरेंसिक जांच के लिए भेजी हैं. PAK का दावा है कि जब मुलाकात के लिए जाधव की पत्नी विदेश मंत्रालय के दफ्तर पहुंचीं तो उनकी जूतियों में ‘धातु की वस्तु’ पाई गई.

First published: 28 December 2017, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी