Home » इंडिया » LAC face off: India's clear message to China, said LAC should limit its activities in its areaa
 

भारत का चीन को साफ संदेश, कहा LAC पर अपनी गतिविधियों को अपने क्षेत्र में सीमित रखे

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 June 2020, 9:06 IST

भारत ने गुरुवार को चीन को साफ संदेश दिया कि वह वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर अपनी गतिविधियों को सीमित रखे. भारत ने गलवान घाटी पर संप्रभुता के चीनी दावों को पूरी तरह खारिज कर दिया. भारतीय सेना का कहना है कि 15 जून को हिंसक झड़प के बाद भारत का कोई सैनिक गायब नहीं है. प्रमुख जनरलों के नेतृत्व में भारतीय और चीनी प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को तनाव को कम करने के लिए गलवान घाटी में पैट्रोल पॉइंट 14 पर मिले. कमांडर मेजर जनरल अभिजीत बापट की उनके चीनी समकक्ष के साथ यह सातवीं बैठक थी. मई की शुरुआत में स्टैंड-ऑफ शुरू हुआ था और सोमवार की रात संघर्ष में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार एक अधिकारी ने नाम न छापने पर कहा कि “दोनों पक्षों में झड़प के बाद सीमा की स्थिति पर लंबी चर्चा हुई. दोनों पक्ष आने वाले दिनों में और बातचीत करने पर सहमत हुए. वार्ता विभिन्न स्तरों पर आयोजित की जाएगी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सैन्य और राजनयिक चैनलों के माध्यम से हुए संपर्क में भारत ने चीन से एलएसी पर अपने कार्यों को सीमित करने के लिए कहा है. बुधवार को अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ फोन पर बातचीत के दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि चीनी सैनिकों ने गलवान घाटी में भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया और एक ढांचा खड़ा करने की मांग की.


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने एक साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में बताया 'सीमा प्रबंधन के लिए अपने जिम्मेदार दृष्टिकोण को देखते हुए भारत प्रतिबद्ध है कि उसकी सभी गतिविधियां हमेशा एलएसी के भारतीय क्षेत्र में हैं. हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष भी एलएसी के अपने क्षेत्र में अपनी गतिविधियों को सीमित करेगा.”

भारत ने गलवान वैली पर चीनी सेना के संप्रभुता के दावे को खारिज कर दिया. 15 जून की झड़प के बाद चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की पश्चिमी कमान द्वारा जारी एक बयान में कहा गया "गलवान नदी घाटी की संप्रभुता हमेशा हमारी रही है. भारतीय सेना ने यह भी कहा कि 15 जून के बाद गालवान घाटी में कोई भी सैनिक लापता नहीं है. सेना ने एक बयान में कहा "यह स्पष्ट किया जाता है कि कोई भारतीय सैनिक कार्रवाई में लापता नहीं है."

इंडियन रेलवे ने चीनी कंपनी से तोड़ा लगभग 500 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट, बताई ये बड़ी वजह

First published: 19 June 2020, 8:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी