Home » इंडिया » LAC is not ending tension, China builds helipad in Pangong Tso area: report
 

LAC पर ख़त्म नहीं हो पा रहा तनाव, चीन ने पैंगोंग त्सो क्षेत्र में बनाया हेलीपैड : रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2020, 9:22 IST

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है, फिलहाल सैन्य कमांडरों के बीच आगे कोई बातचीत का समय तय नहीं हुआ है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार चीनी सेना ने पैंगोंग त्सो क्षेत्र में अपनी स्थिति को मजबूत करना शुरू कर दिया है. चीन ने फिंगर 4 पर एक हेलीपैड का निर्माण और पैंगोंग त्सो के दक्षिणी तट पर सैनिकों की अचानक वृद्धि की है. रिपोर्ट के अनुसार एक अधिकारी ने बताया कि “यह सही है कि चीनियों ने पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी किनारे पर अपनी स्थिति को मजबूत करना शुरू कर दिया है''.

अधिकारी ने कहा ''एक हेलीपैड है जो अब फिंगर 4 क्षेत्र में बनाया जा रहा है, यह पिछले आठ हफ्तों में उसके द्वारा किए गए सभी अन्य बुनियादी ढांचे के निर्माण के अतिरिक्त है.” अधिकारी ने कहा “पीएलए गश्ती दल अब नियमित रूप से झील के किनारे फिंगर 3 के रिज के नीचे छोटे-छोटे किले बना रहे हैं और फिर रिज पर लौट रहे हैं. वे अनिवार्य रूप से हमें फिंगर 2 पर वापस जाने के लिए कह रहे हैं.”


LAC पर चीन ने खोला नया फ्रंट, अब इस क्षेत्र में कर रहा है बॉर्डर क्रॉस, भारी संख्या में वाहन तैनात 

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि इसका मतलब है कि चीनी हमें बता रहे हैं कि उनका यथास्थिति वापस लाने या बहाल करने का कोई इरादा नहीं है. यही कारण है कि वे पैंगोंग त्सो में किसी भी तरह के डी-एस्केलेशन पर चर्चा करने के लिए इच्छुक नहीं हैं. हम भी पर्याप्त संख्या में वहां तैनात हैं. पैंगोंग त्सो और इसका उत्तरी तट दोनों पक्षों के बीच विवाद का क्षेत्र रहा है, लेकिन वर्तमान तनाव उत्पन्न होने से पहले, चीन के पास फिंगर 8 में एक स्थायी आधार था लेकिन उसने अब अब फिंगर 4 पर आठ किलोमीटर की दूरी पर खुद को तैनात किया है, जहां उसने शेल्टर्स, पिलबॉक्सों, बंकरों और अन्य बुनियादी ढांचों का निर्माण भी किया है.

जबकि भारत का कहना है कि क्षेत्र में LAC फिंगर 8 से होकर गुजरता है, चीनियों ने हमेशा पश्चिम में इसका दावा किया है. ऐतिहासिक रूप से भारतीय गश्ती दल की पहुंच फिंगर 8 तक थी, जबकि चीनी गश्त 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान निर्मित सड़क का उपयोग करते हुए वाहनों पर पश्चिम की ओर आए थे. वर्तमान चीनी तैनाती का मुख्य आधार फिंगर 3 के करीब है. भारतीय पक्ष के पास फिंगर 4 के करीब एक प्रशासनिक आधार भी है.

चीन बन रहा है खतरा, एशिया में अपने सैनिकों की तैनाती करने जा रहा है अमेरिका : माइक पोम्पिओ

First published: 27 June 2020, 9:12 IST
 
अगली कहानी