Home » इंडिया » Lalu Prasad Yadav fodder scam sentencing again postpone, sentencing to be announced tomorrow by cbi court ranchi
 

चारा घोटाला: लालू की सजा लगातार तीसरे दिन टली, फिर मिली नई तारीख

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 January 2018, 17:48 IST

आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के मामले में शुक्रवार को भी सजा नहीं सुनाई जा सकी. ये लगातार तीसरा दिन जब लालू को कोर्ट ने सजा नहीं सुनाई है. सीबीआई कोर्ट अब शनिवार दोपहर को लालू समेत अन्य सभी आरोपियों को सजा सुना सकती है.

सीबीआई के जज ने शुक्रवार को सभी आरोपियों की सजा पर सुनवाई पूरी की. अब सीबीआई के जज शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा का ऐलान करेंगे. लालू प्रसाद यादव दोषी साबित होने के बाद रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद है. गुरुवार को लालू ने जज के सामने पेश होकर जेल में हो रही परेशामियों के बारे में बताया था. 

लालू के वकील ने जज से कहा, " लालू प्रसाद यादव को डायबिटीज और सांस संबंधी परेशानी है. ऐसे में उन्हें इस हालत में जेल में रखना ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि लालू  इस मामले में एक साल की सजा भी काट चुके हैं. ऐसे मे उन्हें राहत दी जानी चाहिए."

इससे पहले गुरुवार को लालू ने रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने जेल में ठंड लगने की शिकायत की थी जब जज ने उनसे पूछा कि कोई दिक्कत तो नहीं है. लालू का जवाब सुनकर जज ने कहा, तो आप तबला बजाइए.

लालू से जब जज ने और दिक्कतों के बारे में पूछा तो जवाब में लालू ने कहा, "जेल में मेरे परिचितों को मुझसे मिलने नहीं दिया जा रहा है." इस पर जज ने कहा, "इसीलिए तो हम आपको अदालत में बुलाते हैं जिससे आप सबसे मिल सकें."

गौरतलब है कि रांची की सीबीआई कोर्ट ने पिछले साल 23 दिसंबर को लालू को चारा घोटाले के एक और मामले में दोषी करार दिया था. रांची की सीबीआई कोर्ट बुधवार को 11 बजे लालू को इस मामले में सजा सुनाएगी. 

सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के अलावा 15 और लोगों को सजा सुनाई जाएगी. 23 दिंसबर को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने इस मामले में 6 लोगों को बरी कर दिया था. इनमें बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र भी शामिल थे. 

चारा घोटाले के इस मामले में दोषी करार

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

हम आपको बता दें कि लालू यादव को को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है.

First published: 5 January 2018, 17:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी