Home » इंडिया » Law commission adviced to reduce the legal Age of male to 18 for marriage
 

पुरुषों की शादी की उम्र 21 की जगह 18 साल हो- विधि आयोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 September 2018, 14:52 IST

विधि आयोग के सुझाव के अनुसार पुरुषों के लिए शादी करने की लीगल उम्र 18 साल होनी चाहिए. विधि आयोग ने महिलाओं के साथ पुरुषों की समान उम्र की पैरवी करते हुए कहा, "महिलाओं और पुरुषों के लिए शादी की न्यूनतम कानूनी उम्र समान होनी चाहिए. वयस्कों के बीच शादी की अलग-अलग उम्र की व्यवस्था को खत्म किया जाना चाहिए."

गौरतलब है कि फिलहाल शादी के लिए महिलाओं और पुरुषों की शादी की कानूनी उम्र क्रमश 18 वर्ष और 21 वर्ष है. विधि आयोग ने 'परिवार कानून में सुधार' मुद्दे पर अपने सुझाव देती हुए एक पात्र दिया जिसमे पुरुषों की न्यूनतम उम्र सीमा के लिए विधि आयोग ने लिखा, "अगर बालिग होने की सार्वभौमिक उम्र को मान्यता है जो सभी नागरिकों को अपनी सरकारें चुनने का अधिकार देती है तो निश्चित रूप से, उन्हें अपना जीवनसाथी चुनने में सक्षम समझा जाना चाहिए."

मोदी के मंत्री अश्विनी चौबे ने राहुल गांधी को कहा कीड़ा, मेंटल हॉस्पिटल में भर्ती करने की दी सलाह 

विधि आयोग का कहना है कि जब बालिग़ होने की उम्र भारतीय बालिग अधिनियम 1875 के तहत 18 साल है तो शादी के लिए भी इसी उम्र को मान्यता दी जानी चाहिए. विधि आयोग द्वारा जारी पत्र में कहा गया, 'पति और पत्नी के लिए उम्र में अंतर का कोई कानूनी आधार नहीं है क्योंकि शादी कर रहे दोनों लोग हर तरह से बराबर हैं और उनकी साझेदारी बराबर वालों के बीच वाली होनी चाहिए.'

कम उम्र की लड़कियों को एडल्ट बनाने वाले इंजेक्शन की बिक्री पर दिल्ली हाईकोर्ट ने लगाई रोक
अपने सुझाव को लेकर विधि आयोग ने कहा कि शादी के लिए महिलाओं और पुरुषों के बीच उम्र में अंतर बनाए रखना इस दकियानूसी बात में योगदान देना साबित होगा कि पत्नियां अपने पति से छोटी होनी चाहिए. 

First published: 1 September 2018, 14:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी