Home » इंडिया » Lenin ek parakar se antankwadi hai, aise vyakti ka humare desh mein statue says Subramanian Swamy after destroy statue in Tripura
 

सुब्रमण्यम स्वामी ने बताया लेनिन को विदेशी आतंकी, कहा, हमारे देश में मूर्ति क्यों

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2018, 13:11 IST

भाजपा के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने त्रिपुरा में मशहूर कम्युनिस्ट नेता लेनिन की मूर्ति को गिराए जाने पर बयान दिया है. स्वामी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से इस मामले पर बातचीत करते हुए कहा, " लेलिन तो विदेशी है, एक प्रकार से आतंकवादी है. ऐसे व्यक्ति का हमारे देश में स्टेच्यू? वो मूर्ति कम्यूनिस्ट पार्टी के दफ्तर के अंदर रख सकते हैं और वहीं पूजा करें."

गौरतलब है कि सुब्रमण्यम स्वामी अक्सर लेफ्ट को लेकर हमलावर रहते हैं और कटाक्ष का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं. स्वामी इससे पहले जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी को कुछ समय तक बंद करने की बात भी वो कह चुके हैं. उनका मानना है कि जेएनयू देशद्रोहियों का अड़्डा है.

हम आपको बता दें कि 3 मार्च को पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आए थे. भाजपा ने पहली बार लेफ्ट के किले त्रिपुरा में वामदलों को झटका देते हुए पहली बार सत्ता पाई है. चुनाव नतीजों के बाद त्रिपुरा में हिंसा की खबरें सामने आ रही है. इन हिंसा में लेफ्ट में कई दफ्तरों को निशाना बनाया है.

गौरतलब है कि साउथ त्रिपुरा डिस्ट्रिक्ट के बेलोनिया में बुलडोज़र की मदद से कुछ लोगों ने रूसी क्रांति के नायक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति को ढहा दिया. भाजपा समर्थकों पर इस मूर्ति को तोड़ने का आरोप लग रहा है. इसके बाद राज्य में एक बार फिर से राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है.

लेनिन की मूर्ती तोड़े जाने को लेकर वामपंथी पार्टियों के नेताओं ने नाराज़गी जताई है. लेनिन की मूर्ति को तोड़ने पर सीपीआई(एम) का आरोप है कि राज्य में सत्ता मिलने के बाद बीजेपी-आइपीएफटी कार्यकर्ता हिंसा पर उतारू हो चुके हैं.

सीपीआई(एम) का कहना है कि वे न सिर्फ वामपंथी दफ्तरों में तोड़फोड़ कर रहे हैं बल्कि कार्यकर्ताओं के घरों पर भी हमला कर उन्हें निशाना बना रहे हैं. वहीं वहां मौजूद लोगों के मुताबिक रूसी क्रांति के नायक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति ढहाते वक्त लोगों को भारत माता की जय के नारे भी लगाए गए.

ये भी पढ़ें- त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ती पर चला बीजेपी समर्थकों का बुलडोजर

First published: 6 March 2018, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी