Home » इंडिया » lk advani not to go his own biography inaugural function
 

खुद पर लिखी किताब से आडवाणी ने किया किनारा, विमोचन में नहीं जाएंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2016, 15:16 IST
(पीटीआई)

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी के एक करीबी सहयोगी ने उनके साथ बिताए पलों पर एक किताब लिखी है. इस किताब का नाम है 'आडवाणी के साथ 32 साल' और इसके लेखक हैं विश्वंभर श्रीवास्तव.

बताया जा रहा है कि आज इस किताब का विमोचन होना है, लेकिन पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने इस किताब से किनारा कर लिया है. आडवाणी ने इस किताब से अपने किसी भी तरह के संबंधों को खारिज कर दिया है. आडवाणी की ओर से इसकी विज्ञप्ति उनके निजी सचिव दीपक चोपड़ा ने जारी की है.

आज इस किताब का विमोचन बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा से सांसद सुब्रमण्यम स्वामी करेंगे. यह विमोचन बीजेपी के ही राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा के घर पर हो रहा है.   

लेखक विश्वंभर श्रीवास्तव ने इस किताब में आडवाणी के साथ बिताए 32 साल के अपने अनुभवों को साझा किया है. दूसरी ओर लालकृष्ण आडवाणी के कार्यालय की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि आडवाणी न तो इस किताब को मंज़ूर कर रहे हैं और न ही इस किताब से उनका कोई संबंध है.

बताया जा रहा है कि इस किताब में आडवाणी के जीवन से जुड़ी कुछ घटनाओं को उजागर करने का दावा किया गया है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक किताब में कहा गया है कि आडवाणी ने अपने बेटे जयंत आडवाणी को गांधीनगर से चुनाव लड़ाने की पेशकश से इनकार कर दिया था.

First published: 22 July 2016, 15:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी