Home » इंडिया » Local helmet imposed on bike will have to pay heavy fine, wear only branded helmet
 

बाइक पर लगाया लोकल हेलमेट तो कटेगा भारी-भरकम चालान, उत्पादन पर दो लाख रुपये का जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2020, 13:58 IST

Traffic Rules: अक्सर देखा जाता है कि लोग बाइक या स्कूटर चलाते समय हेलमेट तो लगा लेते हैं लेकिन वह किसी ब्रांडेड कंपनी का नहीं बल्कि लोकल होता है. लेकिन अब अगर लोकल हेलमेट लगाया तो आपको भारी-भरकम चालान कटवाना पड़ सकता है. दोपहिया सवारों के लिए केंद्र सरकार सिर्फ ब्रांडेड हेलमेट पहनने का नया कानून लाने जा रही है.

इसके अलावा सरकार लोकल हेलमेट के उत्पादन व बिक्री के खिलाफ भी कानून लागू करने जा रही है. इस कानून के तहत यदि आप लोकल हेलमेट पहनकर बाहर निकलते हैं तो आप पर एक हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. साथ ही लोकल हेलमेट के उत्पादन पर दो लाख रुपये का भारी-भरकम जुर्माना तथा जेल भेजने का प्रावधान किया जाएगा.

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने बाइक सवारों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर ब्रांडेड हेलमेट को पहली बार भारतीय मानक ब्यूरो (बीएसआई) की सूची में शामिल किया है. 30 जुलाई को जारी अधिसूचना में मंत्रालय ने हितधारकों से आपत्ति और सुझाव मांगे हैं. इसके महीने भर बाद यह नया नियम लागू कर दिया जाएगा.

कोरोना वायरस पर बड़ी खुशखबरी, ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन ने बंदरों पर किया कमाल

बता दें कि सड़क हादसों में लोकल हेलमेट या बिना हेलमेट के चलते प्रतिदिन देश में 28 बाइक सवारों की मौत हो जाती है. निर्माता कंपनियों को हेलमेट को बाजार में बिक्री से पहले बीएसआई से प्रमाणित कराना अनिवार्य होगा. इसमें क्वालिटी चेकिंग की जाएगी. राज्य सरकारों के प्रवर्तन विभाग को इसमें अधिकार होंगे कि वह लोकल हेलमेट की बिक्री तथा उत्पादन पर रोक लगाने के लिए जांच करें.

मंत्रालय ने नए मानक में हेलमेट का वजन घटा दिया है. अब नए मानक के अनुसार, हेलमेट का वजन डेढ़ किलो से घटाकर एक किलो 200 ग्राम कर दिया गया है. हेलमेट को बीआईएस सूची में शामिल होने से दो पहिया चालकों की सड़क दुर्घटनाओं में कम चोटें आएंगी. नए नियम के अनुसार, बीआईएस हेलमेट उत्पादन, स्टॉक व ब्रिकी को अब अपराध माना जाएगा.

सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी के लिए चाहिए था 10वीं का सर्टिफिकेट, 33 बार हुए फेल, फिर आया कोरोना काल और..

बंगाल के राज्यपाल का बड़ा आरोप- ममता सरकार में हिंसा और भ्रष्टाचार शासन का हिस्सा

First published: 1 August 2020, 13:31 IST
 
अगली कहानी