Home » इंडिया » Lockdown impact: Special Rajdhani train seats got filed in just 41 seconds
 

लॉकडाउन के दौरान ट्रेनों में पड़ा सीटों का टोटा, 41 सेकेंड में फुल हो गईं स्पेशल राजधानी की सभी सीट

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 May 2020, 11:10 IST

Lockdown impact: कोरोना वायरस (Corona Virus) का प्रसार रोकने के लिए देशभर (across country) में किए गए लॉकडाउन (lockdown) के चलते प्रवासी मजदूर (Migrant worker) जहां-तहां फंसे हुए हैं. हजारों की संख्या में घर जाने के लिए प्रवासी मजदूर पैदल ही पलायन कर रहे हैं. प्रवासी मजदूरों की इस स्थिति को देखते हुए रेलवे ने कुछ स्पेशल ट्रेनें (Special Trains) चलाई हैं. जिसमें यात्रियों का इतना दबाव है कि ट्रेन की सीटें कुछ ही सेकेंड में फुल हो जा रही है.

रेलवे के आंकड़ों के मुताबिक, इन ट्रेनों की सभी सीटें औसतन 36 से 45 सेकेंड के भीतर बुक हो जा रही हैं. मंगलवार को भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला. जब भुवनेश्वर, पटना और हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस की सीटें 41 सेकेंड में ही पूरी बुक हो गईं. इस बात की जानकारी मिलने के बाद रेलवे बोर्ड ने जांच के आदेश दे दिए हैं. रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारी भी 41 सेकेंड में ट्रेन की सभी सीटें बुक होने से हैरान हैं.


WHO में 34 सदस्यीय कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष होंगे भारत के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

दिल्ली से पटना जाने के लिए जब एक पैसेंटर 02310 पटना स्पेशल राजधानी में एसी थ्री का टिकट बुक कराना चाहा तो सुबह 8 बजे ऑनलाइन बुकिंग होने की साथ ही पूरे के पूूरे टिकट बिक गए. और टिकट नहीं मिल पाया. दिल्ली से कानपुर आने के लिए संदीप अग्रवाल नाम के एक शख्स ने भी बीते सोमवार को आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर लॉगिन कर 02824 एक्सप्रेस में टिकट बनाने की कोशिश की. लगभग एक मिनट बाद ही 24 मई का टिकट 34 वेटिंग के साथ बना. मजबूरी में कन्फर्म होने की उम्मीद में टिकट बना लिया.

आज तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान 'अम्फान', ओडिशा के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरु

कोरोना वायरस: दुनियाभर में मरने वालों की संख्या तीन लाख 24 हजार के पार, 49 लाख से ज्यादा संक्रमित

कुछ सेकेंडों में स्पेशल राजधानी के टिकट बुकिंग का मामला अब रेलवे बोर्ड तक पहुंच गया है. सभी प्रभारियों को यह पता लगाने को कहा गया है कि टिकटों के पीछे कोई गैंग तो नहीं काम कर रहा. आरपीएफ के सहायक सुरक्षा आयुक्त आरएन पांडेय का कहना है कि दो-चार दिन में स्थिति साफ हो जाएगी. उन्होंने बताया कि आरपीएफ पोस्टों के प्रभारियों से दो दिन में रिपोर्ट मांगी गई है. वहीं दूसरी ओर, संकट के इस समय में ट्रैवेल एजेंटों ने लूट शुरू कर दी है. टिकट के लिए दोगुना तक पैसा वसूल रहे हैं. एक पैसेंटर ने बताया कि उन्होंने कानपुर से भुवनेश्वर का ऑनलाइन टिकट बनवाने को ट्रैवेल एजेंट से संपर्क किया तो उसने 5000 मांगे. जबकि कानपुर से थर्ड एसी का 2500 रुपए ही है.

Coronavirus : पिछले 24 घंटों में आये 5,611 COVID-19 मामले, जानिए यूपी, बिहार सहित बड़े राज्यों के हाल

First published: 20 May 2020, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी