Home » इंडिया » Locusts Attack: Alert in 10 District of Uttar Pradesh after Rajasthan and Madhya Pradesh
 

राजस्थान और मध्य प्रदेश के बाद यूपी के किसानों के लिए मुसीबत बना टिड्डी दल, 10 जिलों में अलर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 May 2020, 9:10 IST

Locusts Attack: एक ओर पूरी दुनिया कोराना महामारी (Corona Pandemic) से जूझ रही है, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान (Pakistan) से भारत (India) में आई एक आफत ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. दरअसल, पाकिस्तान से आये टिड्डियों के सैकड़ों दलों ने राजस्थान, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बाद अब उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के किसानों (Farmers) की मुसीबत बढ़ा दी है. राजस्थान (Rajasthan) के जैसलमेर से भारत (India) में प्रवेश करने के बाद टिड्डियों (Losusts) के सैकड़ों दलों अजमेर समेत राज्य के कई जिलों में किसानों फसल बर्बाद कर दी.

अब ये टिड्डियों का दल मध्य प्रदेश की और बढ़ गया है. हालांकि, इससे पहले टिड्डियों के इन दलों ने उत्तर प्रदेश के झांसी में फसलों को नुकसान पहुंचा. टिड्डियों के बढ़ते हमलों के चलते उत्तर प्रदेश के दस जिलों में अलर्ट जारी किया गया है. जानकारी के मुताबिक, टिड्डियों के इन दलों ने राजस्थान के दौसा जिले को मंगलवार को नियंत्रण अभियान के उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे करौली जिले के साथ कई इलाकों में प्रवेश किया. बताया जा रहा है कि मध्य प्रदेश में कई जगह टिड्डी दलों के हमले के बाद महाराष्ट्र के नागपुर और वर्धा जिलों में फसलों को नुकसा पहुंचाया.


किसानों के लिए मुसीबत बनी टिड्डियां, आज झांसी पहुंच सकता है लाखों टिड्डियों का दल

टिड्डियों के हमले को देखते हुए उत्तर प्रदेश में मध्य प्रदेश, राजस्थान से लगे 10 जिलों में हाईअलर्ट घोषित किया गया है. यूपी के अधिकारियों के मुताबिक, दोनों राज्यों की सीमाओं से लगे जिलों में रात के समय रसायनों का भारी छिड़काव करने के आदेश दिए गए हैं. उत्तर प्रदेश उपनिदेशक कृषि कमल कटियार ने बताया कि, राजस्थान और मध्य प्रदेश की सीमाओं से लगे जिलों में स्प्रेयर युक्त ट्रैक्टरों, पॉवर स्प्रेयरों और फायर ब्रिगेड के ट्रकों में रसायन भरकर तैयार रखने के आदेश दिए गए हैं. साथ ही रात के समय भारी स्प्रे करने को कहा गया है.

सब्जी बेचने वाले का बेटा हिमांशु राज बना बिहार टॉपर, खपरैल के मकान में गुजारा करता है परिवार

इसके साथ ही स्थानीय ग्रामीणों को थाली बजाकर और पटाखे छोड़कर तेज आवाज करने का भी निर्देश दिया गया है. जिससे टिड्डियां भाग जाएं. कटियार के मुताबिक, झांसी के जंगल में रविवार को टिड्डी दलों का समूह देखा गया था, जिसे राज्य और केंद्र की टीमों ने मिलकर रसायनों के छिड़काव से 40 फीसदी तक खत्म कर दिया है. हवा की दिशा के चलते इस टिड्डी दल के महोबा जिले में प्रवेश करने की आशंका है. इसलिए महोबा के अधिकारियों को हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है. झांसी में टिड्डी दल ने करीब 25 हेक्टेयर क्षेत्र में सब्जियों को नुकसान पहुंचाया है.

कोरोना वायरस: देश मे अब तक ठीक हुए 60 हजार से ज्यादा मरीज, रिकवरी रेट 41.61 फीसदी

बता दें कि इससे पहले टिड्डियों के दल ने राजस्थान के करौली में फसलों को नुकसान पहुंचाया. वहीं करौली से लगी झांसी, ललितपुर, जालौन और औरैया जिलों की सीमा के अलावा उनसे सटे हमीरपुर, कन्नौज, इटावा और कानपुर जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. कटियार का कहना है कि रात में इन जिलों में कीटनाशकों का छिड़काव अभियान चलाया जाएगा.

कोरोना वायरसः दुनियाभर में अब तक 3.52 लाख से ज्यादा मौत, अमेरिका में मरने वालों की संख्या एक लाख के पार

इसके अलावा मथुरा में भी टिड्डी दलों के हमले की आशंका को देखते हुए तैयारियां की जा रही हैं. मथुरा के जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्रा ने बताया कि 200 लीटर क्लोपिरीफोस को रिजर्व में रखा गया है और क्षेत्र में इस रसायन के विक्रेताओं के जिले से बाहर सप्लाई करने पर रोक लगा दी गई है. वहीं झांसी के जिलाधिकारी आंद्रा वम्सी ने कहा, ग्रामीणों को टिड्डी दल दिखाई देते ही कंट्रोल रूम को बताए जाने के लिए कहा गया है. फायर विभाग को आपातकालीन हालात के लिए रसायनों से भरे ट्रक तैयार रखने को कहा गया है.

Lockdown: 59 दिन से छपरा में फंसा है हंगरी का पर्यटक, अस्पताल से लैपटॉप, मोबाइल, पैसे हुए चोरी

First published: 27 May 2020, 9:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी