Home » इंडिया » Lok Sabha Election 2019: Election Commission says date of main festival and Fridays are avoided for poll days
 

Lok Sabha Election 2019: रमजान पर मतदान को लेकर चुनाव आयोग की तरफ से आया ये बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 March 2019, 16:30 IST

लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी तीन चरणों के चुनाव रमजान के महीने में होने पर हो रहे विवाद को लेकर चुनाव आयोग ने अपनी सफाई दी है. चुनाव आयोग ने कहा है कि पूरे महीने चुनाव रोक पाना संभव नहीं है. चुनाव आयोग ने यह भी बताया है कि शुक्रवार और मुख्य त्योहार के दिन चुनाव की तारीख नहीं रखी गई है.

दरअसल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी और आम आदमी पार्टी ने चुनाव की तारीखों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार के प्रभाव का आरोप लगाया है. आप और टीएमसी ने चुनाव घोषणा की टाइमिंग पर सवाल उठाए हैं. इन दोनों पार्टियों ने यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल और दिल्ली की अधिकतर सीटों पर आखिरी तीन चरण में चुनाव होने को लेकर सवाल उठाया है. इन जगहों पर मुस्लिम मतदाताओं की संख्या अच्छी-खासी है और इस दौरान रमजान का महीना पड़ता है.

 

लोकसभा की कुल 543 में से 169 लोकसभा सीटों पर रमजान के दौरान वोटिंग होनी है. 6 मई, 12 मई और 19 मई को रमजान के दौरान वोट डाले जाएंगे. बता दें कि रमजान का मुकद्दस महीना इस साल 5 मई से शुरू हो रहा है. रमजान के दौरान मुस्लिम समाज के लोग सुबह सवेरे से शाम तक बिना कुछ खाए-पिए रोजा रखते हैं. इसलिए ये सवाल उठाए जाने लगे हैं कि रोजे और भीषण गर्मी के दौरान मुस्लिम मतदाता घंटों तक लाइन में लगकर कैसे वोटिंग करेंगे. 

टीएमसी और आप का कहना है कि इन राज्यों के मुस्लिम बहुल इलाकों में वोटिंग का प्रतिशत ऐसे में कम रह सकता है. इस तरह मुस्लिम मतदाता जिन पार्टियों को वोट देते हैं, उनकी विरोधी पार्टी को इसका फायदा मिल सकता है. 

ओवैसी ने रमजान पर चुनाव को लेकर सवाल उठाने वालों को लगाई लताड़, बोले- ज्यादा होगी वोटिंग

लोकसभा चुनाव 2019: TMC ने चुनाव आयोग पर उठाए गंभीर सवाल, रमजान पर वोटिंग को बताया साजिश

First published: 11 March 2019, 15:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी