Home » इंडिया » Lok Sabha Election 2019: Farooq Abdullah's question
 

Lok Sabha Election 2019: फारूक अब्दुल्ला का सवाल, कश्मीर में माहौल ठीक नहीं तो लोकसभा चुनाव क्यों?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 March 2019, 13:12 IST

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने रविवार को तारीखों का ऐलान कर दिया है. ये चुनाव सात चरणों में संपन्न होगी, जिसकी शुरुआत 11 अप्रैल से होगी. चुनाव की तारीखओं के ऐलान के बाद से सभी नेता अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. अप्रैल से शुरू होने वाले चुनाव को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव ना होने पर सवाल उठाए हैं.

अब्दुल्ला ने कहा कि सभी पार्टियां विधानसभा चुनाव कराने के हक में हैं. यदि लोकसभा चुनाव के लिए माहौल ठीक है तो फिर विधानसभा चुनाव के लिए क्यों नहीं?. उन्होंने कहा कि जब पंचायत चुनाव हो सकते हैं तो फिर ये क्यों नहीं? उन्होंने कहा कि अगर राज्य में सुरक्षाबल पर्याप्त मात्रा में मौजूद है, तो फिर दोनों चुनाव साथ में क्यों नहीं कराए जा सकते हैं.

 

इसी के साथ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव की तारीखों को लेकर सवाल उठाए. टीएमसी और आम आदमी पार्टी ने चुनाव की तारीखों को मोदी सरकार के प्रभाव का आरोप लगाया है. आप और टीएमसी चुनाव घोषणा की टाइमिंग पर सवाल उठा रहे हैं.

दरअसल यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल और दिल्ली की अधिकतर सीटों पर आखिरी तीन चरण में चुनाव होना है, जहां मुस्लिम मतदाताओं की संख्या अच्छी-खासी है. लोकसभा की कुल 543 में से 169 लोकसभा सीटों पर रमजान के दौरान वोटिंग होगी. 6 मई, 12 मई और 19 मई को रमजान के दौरान वोट डाले जाएंगे. बता दें कि रमजान का मुकद्दस महीना इस साल 5 मई से शुरू हो रहा है.

इसे लेकर टीएमसी और आप के अनुसार, ऐसे समय में वोटिंग होने से इन राज्यों के मुस्लिम बहुल इलाकों में वोटिंग का प्रतिशत ऐसे में कम रह सकता है. इस तरह मुस्लिम मतदाता जिन पार्टियों को वोट देते हैं, उनकी विरोधी पार्टी को इसका फायदा मिल सकता है.

लोकसभा चुनाव 2019: नितिन गडकरी ने PM पद की उम्मीदवारी को लेकर कही बड़ी बात

First published: 11 March 2019, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी