Home » इंडिया » Lok Sabha Election 2019: Mulayam Singh Yadav in laws opposes SP-BSP alliance in UP
 

मायावती के साथ गठबंधन को स्वीकार नहीं कर पा रहे अखिलेश के रिश्तेदार, मुलायम के समधी ने की बगावत

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2019, 18:10 IST

2019 लोकसभा चुनाव से पहले यूपी में सपा-बसपा का महागठबंधन हो चुका है. वहीं अब इसे लेकर अखिलेश यादव के रिश्तेदारों ने बगावती तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के समधी और सिरसागंज से विधायक हरिओम यादव ने बगावती तेवर अपनाते हुए कहा कि यह गठबंधन ज्यादा दिन नहीं चलेगा.

हरिओम यादव ने कहा कि इसे चलाने के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष को घुटने टेकने पड़ेंगे. उन्होंने सिर्फ इतना ही नहीं कहा बल्कि शिकोहाबाद में 22 जनवरी को एक सम्मेलन भी बुलाया है. इस सम्मेलन को पोल खोल नाम दिया गया है. हरिओम यादव ने कहा कि इसमें यह बताया जाएगा कि पिछले पांच सालों में पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ क्या-क्या किया गया.

पढ़ें- मंदिर के नाम पर पलटे राहुल गांधी, बोला कुछ ऐसा.. बदल सकता है लोकसभा चुनाव का रिजल्ट

हरिओम ने कहा कि मुलायम सिंह जैसे विशाल हृदय वाले व्यक्ति के साथ जब बीएसपी का गठबंधन नहीं चला तो अब कैसे चलेगा. बता दें कि साल 2014 के आम चुनाव में यूपी में सपा सिर्फ मुलायम परिवार की सीटों तक सिमट गई थी तो बसपा का खाता भी नहीं खुल पाया था.

पढ़ें- बाहुबली नेता ने मायावती पर लगाया था करोड़ों रुपये लेकर टिकट देने का आरोप, अब उसी पर हुईं मेहरबान

बता दें कि यूपी में पिछले कुछ समय से मायावती और अखिलेश यादव की सियासी दोस्ती परवान चढ़ रही है. दोनों ने पहले लोकसभा के उपचुनावों में हाथ मिलाया फिर आम चुनाव 2019 के लिए भी गठबंधन का ऐलान किया है. लोकसभा चुनाव के लिए राज्य की 80 में से दोनों दलों ने 38-38 सीटों पर लड़ने का ऐलान किया है. 

First published: 14 January 2019, 18:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी