Home » इंडिया » Lok Sabha Election 2019: Unemployment rate 7.2 percent is worryying signs for Narendra Modi Govt
 

चुनाव से पहले मोदी सरकार को झटका, 7.2 प्रतिशत बेरोजगारी दर, 110 लाख लोगों ने गंवाई नौकरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2019, 12:26 IST

2019 लोकसभा चुनाव से पहले बेरोजगारी दर 7.2 फीसदी बढ़ गई है. बेरोजगारी के ये आंकड़े मोदी सरकार के लिए परेशानी का सबब बन सकती है. CMIE ने जनवरी 2019 आंकड़े जारी किए हैं. इस आंकड़े के अनुसार, नोटबंदी और जीएसटी के चलते साल 2018 में 110 लाख लोगों की नौकरियां चली गई. 

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था निगरानी केंद्र यानि CMIE के डेटा के अनुसार, सितंबर 2016 के बाद यह बेरोजगारी की सबसे उच्‍चतम दर है. बता दे कि पिछले साल फरवरी में बेरोजगारी दर 5.9 प्रतिशत थी, वहीं इस साल फरवरी में यह 7.2 प्रतिशत पहुंच गई है. 

रॉयटर्स की खबर के अनुसार, मुंबई के एक थिंक-टैंक प्रमुख महेश व्‍यास ने बताया कि रोजगार चाहने वालों की संख्‍या में गिरावट के बावजूद बेरोजगारी दर बढ़ी है. इसके लिए उन्होंने श्रम बल भागीदारी दर में अनुमानित गिरावट का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि फरवरी 2019 में देश के 4 करोड़ लोगों के पास रोजगार है, जबकि फरवरी 2018 में यह आंकड़ा 4.06 करोड़ था.

CMIE की जनवरी में जारी एक रिपोर्ट में कहा गया था कि साल 2016 के नवंबर में नोटबंदी और जुलाई 2017 में GST लागू होने के बाद से 2018 में 1.1 करोड़ लोगों ने नौकरियां गंवाई. हालांकि, केंद्र सरकार ने फरवरी में संसद में कहा था कि उसके पास यह डेटा नहीं है कि नोटबंदी से लघु क्षेत्र में रोजगार पर कितना असर पड़ा.

केंद्र सरकार ने पिछली बार जब आधिकारिक डेटा जारी किया था तो उस पर विवाद हो गया था और उसे आउट-ऑफ-डेट बताया गया था. वहीं, हाल ही में केंद्र सरकार ने रोजगार से जुड़ा एक डेटा रोक लिया था. इस पर अधिकारियों ने कहा था कि उन्‍हें जांचना है कि वह डेटा सही है या नहीं. 

बता दें कि CMIE ने जो आंकड़े जारी किए है, वह देशभर के लाखों घरों के सर्वे पर आधारित हैं. CMIE के आंकड़ों को सरकार द्वारा जारी बेरोजगारी के आंकड़े से ज्‍यादा भरोसेमंद माना जाता है. इसलिए जल्द ही होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले बेरोजगारी दर के ये आंकड़े और ऐसी वृद्धि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए चिंता का सबब बन सकती है.

First published: 6 March 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी