Home » इंडिया » Lok Sabha Election 2019: Unique voting in North Korea, just one name on ballot paper
 

लोकसभा चुनाव 2019: इस देश में होता है सबसे अनोखा चुनाव, मतपत्र पर होता है एक ही प्रत्याशी का नाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 March 2019, 17:10 IST

लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान होते ही भारत में चुनाव का सीजन शुरू हो गया है. इसके साथ देश-दुनिया में होने वाले अलग-अलग तरीके के चुनावों पर बात होने लगी है. ऐसे ही भिन्न प्रकार का चुनाव उत्तर कोरिया में होता है. उत्तर कोरिया में बैलेट पेपर पर मात्र एक प्रत्याशी का नाम होता है. यानि की उम्मीदवार की जीत लगभग तय होती है.

दरअसल, उत्तर कोरिया में दिखावे के लिए हर पांच वर्ष में सुप्रीम पीपुल्स असेंबली के चुनाव कराए जाते हैं. रविवार (10 मार्च) को भी यहां मतदान कराया गया. इस बार भी ‘एकनिष्ठ एकता' के नारे के साथ चुनाव कराया गया.

उत्तर कोरिया में मतदान के दौरान मतपत्र पर केवल एक ही स्वीकृत था. नियम यह है कि मतदाता वोटिंग से पहले उस नाम को या तो काट सकते हैं या नहीं, हालांकि कोई नाम काटता नहीं है. रविवार को हुई वोटिंग में शाम छह बजे तक सरकारी संवाद समिति केसीएनए के अनुसार, 100 प्रतिशत वोटिंग हुई, केवल उन्हें छोड़कर जो विदेश में हैं.

उत्तर कोरिया के मुख्य चुनाव अधिकारी को कयोंग हाक ने 3.26 प्योंगयांग केबल फैक्ट्री के एक मतदान केंद्र के बाहर कहा, "हमारे समाज में लोग एकमत होकर शीर्ष नेता के सम्मान में एकत्रित होते हैं. चुनाव में हिस्सा लेना नागरिकों का कर्तव्य है और ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जो उम्मीदवार को नकारे."

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी का कोरिया में मजबूत पकड़ है. या यह कह लीजिए की इस पार्टी के सामने कोई बोल नहीं पाता है. साल 2014 में भी यहां इसी तरह से मतदान करवाए गए थे. जिसमें 99.97 प्रतिशत मतदान हुआ था. तब भी नामित उम्मीदवार के पक्ष में शत-प्रतिशत मतदान हुआ था. सिर्फ उन लोगों ने मतदान नहीं किया था जो देश से बाहर थे.

First published: 11 March 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी