Home » इंडिया » Lok Sabha Elections 2019: Is Narendra Modi Want to polarize Sikh votes in the name of Rajiv Gandhi
 

क्या राजीव गांधी के नाम पर सिख वोटों का ध्रुवीकरण करना चाहते हैं नरेंद्र मोदी?

आदित्य साहू | Updated on: 9 May 2019, 18:10 IST

लोकसभा चुनाव 2019 के पांच चरण के चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर लगातार हमलावर दिख रहे हैं. अपनी लगभग हर चुनावी रैली में पीएम मोदी राजीव गांधी पर कुछ न कुछ हमला बोल रहे हैं. बुधवार को दिल्ली के रामलीला मैदान पर राजीव गांधी को लेकर पीएम मोदी ने एक ऐसा बयान दिया जिसके बाद देश की राजनीति में तूफान आ गया.

पीएम मोदी ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री ने युद्धपोत आईएनएस विराट को अपने सैर-सपाटे के लिए इस्तेमाल किया था. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ने इसे ‘निजी टैक्सी’ की तरह इस्तेमाल किया था. इससे पहले पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री को लेकर कहा था कि उनका अंत भ्रष्टाचारी नंबर 1 के रूप में हुआ था.

 

पहले पांच चरण के मतदान से पहले नरेंद्र मोदी ने प्रचार में राजीव गांधी का नाम तक नहीं लिया था, वह ज्यादातर मौकों पर राहुल गांधी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी तक ही सीमित थे. लेकिन अब जबकि आखिरी दो चरणों का मतदान बचा है तो ऐसा क्या हुआ कि पीएम मोदी राजीव गांधी पर हमलावर हो गए?

दरअसल, 12 मई को छठे चरण का चुनाव है. छठे चरण में दिल्ली, हरियाणा समेत सात राज्यों की कुल 59 सीटों पर मतदान है. इससे पहले पूर्व पीएम राजीव गांधी पर हमला बोल और उन्हें भ्रष्टाचारी बताकर नरेंद्र मोदी सिख वोटों का ध्रुवीकरण करना चाहते हैं.

 

बता दें कि साल 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री और राजीव गांधी की मां इंदिरा गांधी की हत्या हुई थी. उनकी हत्या दो सिख जवानों ने की थी. इसके बाद दिल्ली और आसपास के इलाकों में सिख दंगे भड़क उठे थे. इसमें कई सिखों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी. कांग्रेस पर ये दंगा करवाने के आरोप लगते रहे हैं. तब देश के प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे.

राजीव गांधी का एक बयान भी दंगे के बाद खूब सुर्खियों में था. 19 नवंबर, 1984 को राजीव गांधी ने बोट क्लब में इकट्ठा हुए लोगों के हुजूम के सामने कहा था, "जब इंदिरा जी की हत्या हुई, तो हमारे देश में कुछ दंगे-फसाद हुए. हमें मालूम है कि भारत की जनता को कितना क्रोध आया, कितना ग़ुस्सा आया और कुछ दिन के लिए लोगों को लगा कि भारत हिल रहा है. जब भी कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती थोड़ी हिलती है."

 

पीएम मोदी, राजीव गांधी के बहाने सिख दंगों के सहारे सिखों को कांग्रेस के खिलाफ एकजुट कर उसका राजनीतिक फायदा उठाना चाहते हैं. चूंकि दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में इन दो चरणों में चुनाव है तो पीएम मोदी के निशाने पर अचानक से राजीव गांधी आ गए हैं. दिल्ली, हरियाणा में छठे चरण तो पंजाब में आखिरी चरण में चुनाव है.

पीएम मोदी इन दो चरणों को लेकर कांग्रेस और गांधी परिवार के खिलाफ हवा बनाने की कोशिश में हैं. पंजाब में पहले से ही पूर्व पीएम इंदिरा गांधी को लेकर एक बड़े तबके में नाराजगी है. उनके शासनकाल में जून 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार हुआ था. अमृतसर के स्वर्ण मंदिर को खालिस्तान समर्थकों और जनरैल सिंह भिंडरावाले से सेना ने ऑपरेशन कर खाली कराया था.

सेना के इस ऑपरेशन में भारी खून खराबा हुआ था. ऑपरेशन में 83 सैनिक और 300 से ज्यादा लोग मरे थे. सिख समुदाय उसे ब्लैक ऑपरेशन कहता है. इस कारण आज भी यह समुदाय गांधी परिवार से नाराजगी रखता है. पंजाब में लोकसभा की 13 सीटें हैं. यहां 19 मई को वोट डाले जाएंगे. राजीव गांधी और इंदिरा गांधी के नाम पर पीएम मोदी यहां सिख भावनाओं को भुनाना चाहते हैं.

'राजीव गांधी ने INS विराट पर सोनिया गांधी के साथ मनाया था पिकनिक, देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़'

First published: 9 May 2019, 18:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी