Home » इंडिया » Lok Sabha Elections 2019: Rahul Gandhi contest from two seats from Amethi in UP and Wayanad in Kerala
 

क्या स्मृति इरानी से डर गए हैं राहुल गांधी ? अमेठी के अलावा यहां से भी लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2019, 12:10 IST

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दो सीटों से लोकसभा चुनाव लड़ेगे. वह यूपी के अमेठी के अलावा केरल के वायनाड लोकसभा सीट से पर्चा दाखिल करेंगे. कांग्रेस के सीनियर नेता एके एंटनी ने रविवार को प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी के अलावा केरल की वायनाड सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.

एंटनी ने कहा कि दक्षिण भारत के कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता राहुल गांधी से लगातार वायनाड सीट से चुनाव लड़ने की मांग कर रहे थे. इसके बाद राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं की मांग को स्वीकार कर लिया है. बता दें कि केरल का वायनाड सीट, तीन राज्यों तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक से घिरा हुआ है. 

 

इस दौरान कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आज एक सुखद दिन है. राहुल गांधी जी ने अनेकों बार कहा है कि अमेठी उनकी कर्मभूमि है. अमेठी से उनका पारिवारिक रिश्ता है. वह अमेठी को छोड़ नहीं सकते हैं. स्मृति ईरानी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि वह इस बार हार की हैट्रिक लगाएंगी. पहले वह नई दिल्ली से हारीं, दूसरी बार अमेठी से और अब तीसरी बार भी अमेठी से हारेंगी. 

राहुल गांधी के केरल से भी लोकसभा चुनाव लड़ने की खबर सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कहा जाने लगा है कि राहुल गांधी अमेठी से हारने की आशंका के खातिर ऐसा कर रहे हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी अमेठी से उतनी बड़ी जीत हासिल नहीं कर पाए थे जितना कांग्रेस पार्टी का गढ़ माने जानी वाली अमेठी से उम्मीद थी. 

भारतीय जनता पार्टी ने पिछली बार की तरह ही इस सीट से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को उम्मीदवार बनाया है. स्मृति ईरानी भी पिछली बार हारने के बाद इस बार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती हैं. यह भी कहा जा रहा है कि इस बार अमेठी की जनता बदलाव के मूड में है. माना जा रहा है कि अमेठी भारी भरकम सीट होने के बाद भी अपनी सांसद की उपेक्षा झेल रहा है.

भाजपा ने अपनी पहली लिस्ट में ही अमेठी से केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को चुनाव मैदान में उतारा है. ईरानी 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी से 1 लाख के आस-पास वोटों से हार गई थी, लेकिन इस बार इनके बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिलेगा. साल 2014 में राहुल गांधी को 4,08,651 और स्मृति ईरानी को 3,00,748 वोट हासिल हुए थे.

चार गर्लफ्रेंड्स को खुश करने के लिए नए-नए तरकीब से चुराता था कार, फिर एक दिन हुआ ऐसा कि...

Video: अपनी ही पोती को BJP की टोपी नहीं पहना पाए अमित शाह !

First published: 31 March 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी