Home » इंडिया » Loksabha election 2019: BJP 9 crore workers will go door to door and open pole of Congress
 

लोकसभा चुनाव से पहले BJP ने 9 करोड़ सिपाहियों को उतारा मैदान में, कांग्रेस का होगा सूपड़ा साफ !

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 September 2018, 12:27 IST

Loksabha Election 2019: लोकसभा चुनाव 2019 से पहले भारतीय जनता पार्टी ने अपनी कमर कस ली है. जहां एक तरफ कांग्रेस मोदी सरकार पर हमला करने की कोशिश कर रही है, वहीं बीजेपी ने कांग्रेस को चुनाव से बाहर करने के लिए रणनीति बना ली है. इस रणनीति के तहत बीजेपी ने अपने 9 करोड़ कार्यकर्ताओं को अभी से मैदान में उतार दिया है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, साल 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत के बाद बीजेपी एक बार फिर साल 2019 के चुनाव में प्रचंड विजय की आस देख रही है. इसके लिए उसने अभी से काम करना शुरू कर दिया है. भाजपा अब घर घर पहुंचकर कर कांग्रेस की पोल खोलने की तैयारी कर रही है. बीजेपी के अनुसार, वह अपने नौ करोड़ कार्यकर्ताओं को घर-घर भेजेगी और कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार की करतूतों को उजागर करेगी.

पढ़ें- तेलंगाना में महागठबंधन, TRS को हराने के लिए कांग्रेस,TDP और लेफ्ट आये एक साथ

बीजेपी ने कहा कि वह बताएगी कि किस तरह से उसने बड़े ऋणों में ‘फर्जीवाड़ा’ किया जिससे बैंकों में गैर निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) बेतहाशा बढ़ गई. बीजेपी के बड़े नेता और मोदी सरकार में रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि एनपीए को लेकर फैलाई जा रही झूठ की सच्चाई कुछ और ही है. जो ऋण खाते आठ साल पहले एनपीए हो चुके थे, उनको झूठे पुनरीक्षित करके और उन्हें दोबारा ऋण देकर ऐसे खातों को स्थिर और चालू दिखाया गया. ऋण पाने वाली कंपनियों की हैसियत उसे चुकाने का था ही नहीं और ना ही उनकी ऐसी नीयत थी.

रेलमंत्री ने बताया कि हमारे 9 करोड़ कार्यकर्ता जनता के बीच जाएंगे और घर-घर में यूपीए सरकार की करतूतों की पोल खोलेंगे और मोदी सरकार के कामों और उठाए गए सही कदमों के बारे में बताएंगे. 

पढ़ें- अब इस नेता ने किया दावा- अरुण जेटली ने सेंट्रल हॉल में भगोड़े माल्या से की थी मुलाकात

मोदी सरकार ने इन कंपनियों के खातों के सच को 2014-15 में भी खंगाल लिया था. यूपीए सरकार के समय कुछ कंपनियों को अनाश शनाप ढंग से बेतहाशा ऋण दिए गए और उससे बैंकों का आधार कमजोर होता गया. उस समय सच्चाई सामने लाने से भारत की अंतरराष्ट्रीय मंचों पर साख को बहुत नुकसान होता, इसी वजह से सरकार ने धीरे-धीरे कार्रवाई करके बैंकों को ऐसे खातों को एनपीए में लाने को बाध्य किया और पता लगाया कि 2006-08 से लेकर 2013-14 तक कुल ऋण 18 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 53 लाख करोड़ हो गया.

First published: 13 September 2018, 12:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी