Home » इंडिया » Loksabha Election 2019: Nitish Kumar can fight against PM Narendra Modi from Varanasi
 

PM मोदी को बड़ा झटका, वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं नीतीश कुमार

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 July 2018, 8:50 IST

बिहार के मुख्यमंत्री और वर्तमान में बीजेपी के समर्थन से अपनी सरकार चला रहे नीतीश कुमार पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी से साल 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं. अगर ऐसा होता है तो यह पीएम मोदी और एनडीए के लिए बड़ा झटका साबित होने वाली है. एक तरफ जहां विपक्ष के पास पीएम मोदी के खिलाफ कोई बड़ा चेहरा नहीं है वहीं नीतीश कुमार के पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने से विपक्ष को बड़ा चेहरा मिल जाएगा.

दरअसल, पिछले कुछ समय से नीतीश कुमार एनडीए से पल्ला झाड़ महागठबंधन में लौटने के लिए छटपटा रहे हैं. नीतीश कुमार ने लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर उनसे हाल-चाल पूछा है. लेकिन नीतीश कुमार के महागठबंधन में लौटने के लिए एक बड़ा पेंच खुद लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव हैं.

तेजस्वी कई बार सार्वजनिक मंचों पर कह चुके हैं कि नीतीश के लिए महागठबंधन में कोई जगह नहीं है. लेकिन फिर भी नीतीश कुमार महागठबंधन में लौटना चाहते हैं. इसका कारण यह है कि एनडीए में उन्हें वो स्थान नहीं मिला जो मिलना चाहिए था. जब वह महागठबंधन में थे तो पीएम मोदी के खिलाफ विपक्ष का एकमात्र चेहरा थे. लेकिन एनडीए में शामिल होते ही उनकी वैल्यू घट गई. 

अब अगर नीतीश फिर से महागठबंधन में वापस आना चाहते हैं तो उन्हें कुछ कुर्बानियां देनी होंगी. सबसे पहले तो उन्हें बिहार के मुख्यमंत्री पद को तेजस्वी यादव के लिए छोड़ना होगा. ऐसा कर वह महागठबंधन के प्रति अपना विश्वास प्रकट कर सकते हैं. 

इसके अलावा सम्पूर्ण विपक्ष में अपना विश्वास जताने के लिए उन्हें पीएम मोदी का सीधा प्रतिद्वंदी बनना पड़ेगा. इसी कारण कयास लगाए जा रहे हैं कि वह वाराणसी से लोकसभा का चुनाव लड़ सकते हैं. नीतीश के ऐसा करने से विपक्ष के पास भी एक बड़ा चेहरा हो जाएगा. 

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस के साथ सरकार बना सकती हैं महबूबा मुफ्ती

नीतीश के लिए बिहार की राजनीति के बजाय अब दिल्ली की राजनीति में रास्ता खोजने की रणनीति ज़्यादा फायदेमंद साबित होगी. विपक्ष अभी भी चेहरे की तलाश में है. ऐसे में वो काफी अहम चेहरे बनकर उभर सकते हैं और मोदी को टक्कर दे सकने की स्थिति में आ सकते हैं. मोदी का विकल्प बनने के लिए उन्हें मोदी के सामने खड़ा होना पड़ेगा.

First published: 3 July 2018, 8:46 IST
 
अगली कहानी