Home » इंडिया » Loksabha Election 2019: Pravin Togadiya's party will contest all seats, big statement on Ram Mandir
 

कभी नरेंद्र मोदी के साथ स्कूटर पर घूमते थे तोगड़िया, अब BJP के खिलाफ सारी सीटों पर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2019, 13:28 IST

एक जमाने में नरेंद्र मोदी के खासम-खास रहे और स्कूटर के पीछे बैठकर साथ घूमने वाले पूर्व वीएचपी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया बीजेपी के खिलाफ 2019 का चुनाव लड़ने जा रहे हैं. पूर्व वीएचपी प्रमुख और अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष डॉ प्रवीण तोगड़िया ने एक महीने के अंदर नई पार्टी बनाने का ऐलान किया है.

तोगड़िया ने यह भी बताया कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. तोगड़िया ने मोदी सरकार को कृषि और रोजगार समेत हर मोर्चे पर विफल बताया. राजस्थान के जोधपुर में पत्रकारों से बात करते हुए तोगड़िया ने बताया कि उनकी पार्टी का रजिस्ट्रेशन हो चुका है और जल्द ही इसके नाम का ऐलान किया जाएगा.

पढ़ें- भरी सभा में अखिलेश यादव पर भड़क गए मुलायम, बोले- बहुत बड़ी जिम्मेदारी मिली थी लेकिन..

तोगड़िया ने तीन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी को मिली हार का जिक्र करते हुए दावा किया कि भाजपा से लोगों का विश्वास उठ चुका है. मोदी सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर सरकार ने चुप्पी साध ली है. उन्होंने कहा राम मंदिर पर चुप हैं तो तीन तलाक पर बिल लाने की ऐसी क्या जल्दी थी?

इसके अलावा तोगड़िया ने दावा किया कि उनकी पार्टी एक हफ्ते में राम मंदिर निर्माण शुरू करवाने के लिए काम करेगी. उन्होंने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की भी बात कही.

पढ़ें- मध्य प्रदेश: कांग्रेस ने सत्ता में आने के बाद लगा दी वंदे मातरम पर रोक, भाजपा हुई हमलावर

बता दें कि नरेंद्र मोदी जब शुरू शुरू में बीजेपी के लिए काम कर रहे थे तो तोगड़िया से उनकी खूब बनती थी. दोनों एक साथ स्कूटर पर बैठकर पार्टी का प्रचार करने जाते थे. अहमदाबाद की सड़कों पर तोगड़िया स्कूटर चलाते थे और नरेंद्र मोदी पार्टी का पर्चा बांटते थे. लेकिन दोनों के रिश्तों में बाद में कड़वाहट पैदा हो गई थी.

तोगड़िया और मोदी के बीच तल्खी तब आई थी जब नरेंद्र मोदी गुजरात में मुख्यमंत्री बने थे. साल 2002 में मोदी ने स्पष्ट कर दिया था कि तोगड़िया सरकार के कामकाज विशेषकर गृह विभाग के मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे. इसके बाद दोनों के संबंधों में कड़वाहट शुरू हो गई थी. विवाद तब और बढ़ गया था जब मोहम्मद अली जिन्ना पर लाल कृष्ण आडवाणी के बयान के बाद प्रदर्शन कर रहे वीएचपी कार्यकर्ताओं की पुलिस ने पिटाई कर दी थी.

First published: 2 January 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी