Home » इंडिया » LokSabha Election 2019 What is the guest house scandal
 

24 साल पहले उस गेस्टहाउस में क्या हुआ था मायावती के साथ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 April 2019, 11:11 IST

मायावती और मुलायम सिंह यादव एक साथ मैनपुरी में आज मंच साझा करने जा रहे हैं. इन दोनों का एक साथ मंच पर आना इसलिए भी ऐतिहासिक है क्योंकि आज 24 साल पहले गेस्ट हाउस कांड की यादें आज भी लोगों के जहन में ताजा हैं. इस कांड के उसके बाद किसी ने नहीं सोेचा था कि ये दोनों एक साथ कभी नजर आएंगे.

गेस्टहाउस कांड क्या है बहुत से लोगों के मन में ये सवाल उठता है आज हम आपको इस कांड के बारे में बताने जा रहे हैं आखिर क्या हुआ था 24 साल बाद जिससे सपा और बसपा के बीच गहरी खाई बन गई थी, जिसे भरने में लगभग 24 साल लग गए.


क्यों आए थे 24 साल पहले एक साथ

1993 में जब राम मंदिर आंदोलन हुआ था, जब भारतीय जनता पार्टी का उभार हुआ. भारतीय जनता पार्टी के उभार के बाद सपा और बसपा बीजेपी को सत्ता से दूर करना चाहती थी. इस वजह से दोनों ने 1993 के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाजवादी पार्टी के संस्थापक कांशीराम और जनता दल को तोड़कर समाजवादी पार्टी की स्थापना करने वाले मुलायम सिंह यादव ने गठबंधन किया. बसपा के इस समर्थन में मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने, लेकिन दो साल के अंदर ही इन दोनों पार्टियों के बीच दरार पैदा हो गई, जिसे भरने में लगभग 24 साल लग गए.

 

PAK में एक बार फिर हिन्दू नाबालिग से निकाह कर कराया गया धर्म परिवर्तन, लाहौर की सड़कों पर प्रदर्शन

क्या था गेस्ट हाउस कांड?

1993 में हुए गठबंधन के बीच दो साल के अंदर दरारें पैदा होने लगीं और जून 1995 तक आते-आते ये गठबंधन टूट गया. गठबंधन टूटने के एक दिन बाद बसपा स्थापक कांशीराम के कहने पर मायावती ने लखनऊ के वीआईपी गेस्ट हाउस में एक सभा का आयोजन किया. ये मीटिंग शाम करीब 4 बजे हुई, जिसमें सपा के करीब दो सौ से अधिक विधायक और कार्यकर्ता शामिल हुए. इन कार्यकर्ताओं ने मीटिंग में मौजूद बसपा के कार्यताओं और विधायकों पर हमला बोल दिया और मारपीट शुरू कर दी.

भड़के कार्यकर्ताओं को देखकर मायावती ने खुद को एक अलग कमरे में बंद कर लिया. भड़की भीड़ ने मायावती के कमरे को भी तोड़ने की कोशिश की और कमरे को पीट-पीट कर जातिसूचक शब्द का प्रयोग कर मायवती को गाली देने लगे. इस घटना के बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और डीएम ने भड़के लोगों पर काबू पाया, जिसके बाद बसपा के कार्यकर्ताओं और मायावती की जान बचाई गई. मायवती के साथ हुए इस कांड को उसने इतिहास का एक काला पन्ना भी कहा जाता है.

24 साल बाद एक बार फिर मुलायम-मायावती नजर आएंगे एक साथ

First published: 19 April 2019, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी