Home » इंडिया » Lunar eclipse 2019: 149 साल बाद फिर इस 17 जुलाई को दिखाई देगा ऐसा दुर्लभ चंद्रग्रहण
 

Lunar eclipse 2019: 149 साल बाद फिर इस 17 जुलाई को दिखाई देगा ऐसा दुर्लभ चंद्रग्रहण

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 July 2019, 9:27 IST

17 जुलाई को देशभर ने चंद्रग्रहण देखा जायेगा. यह आंशिक चंद्रग्रहण होगा और यह साल में दूसरी बार दिखाई दे रहा है. इस बार चंद्रग्रहण भारत में रात 1 बजकर 31 मिनट से  लेकर 4 बजकर 30 मिनट तक दिखेगा. ऐसा दुर्लभ संयोग 149 साल आ रहा ही जब गुरु पूर्णिमा के दिन ही चंद्र ग्रहण भी पड़ेगा.

चंद्रग्रहण के दौरान पृथ्वी चंद्रमा पर छाया डालती है. इस छाया में क्रमशः एक केंद्रीय और बाहरी छाया होती है जिसे अम्बरा और पेनम्ब्रा कहते हैं. जब चंद्रमा पूरी तरह से गर्भ से होकर गुजरता है या जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा पूरी तरह से संरेखित होते हैं. 

माना जाता ही कि चंद्र ग्रहण को देखने के लिए सूर्यग्रह की तरह ज्यादा सावधानी बरतने की आवशयकता नहीं है. आप सोलर फिल्टर चश्मे के बिना भी चंद्र ग्रहण देख सकते हैं.

17 जुलाई को चंद्रग्रहण के चलते केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के कपाट बंद रहेंगे क्योंकि हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहणकाल से नौ घंटे पूर्व से सूतक काल होता है. यह ग्रहण ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और कुछ पड़ोसी द्वीपों के क्षेत्रों में भी दिखाई देगा. आंशिक चंद्रग्रहण अरुणाचल प्रदेश के अत्यधिक पूर्वोत्तर भाग को छोड़कर भारत के सभी स्थानों पर दिखाई देगा.

Chandrayaan 2: तकनीकी खामी की वजह से लॉन्चिंग से 56 मिनट पहले रोका गया मिशन चंद्रयान

 

नासा के अनुसार एक ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा या ग्रह, दूसरे की छाया में चले जाते हैं. उदाहरण के लिए एक सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच चलता है, जो अंततः सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी तक पहुंचने से रोकता है. दूसरी ओर चंद्र ग्रहण तब होता है जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है, जो सूर्य की रोशनी को चंद्रमा तक पहुंचने से रोक देती है.

First published: 15 July 2019, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी