Home » इंडिया » Madhya Pradesh: BJP President Amit Shah attacks Congress govt on ban Vande Mataram
 

मध्य प्रदेश: 'कांग्रेेस सरकार द्वारा वंदे मातरम पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय एक शर्मनाक हरकत'

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 January 2019, 13:10 IST

मध्य प्रदेश की कांग्रेसनीत कमलनाथ सरकार ने राज्य सचिवालय में महीने की पहली तारीख को होने वाले राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् गाने की 13 साल पुरानी परंपरा पर रोक लगा दी है. इस निर्णय के बाद कमलनाथ सरकार निशाने पर आ गए हैं. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बाद अब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह उनपर हमलावर हो गए हैं.

अमित शाह ने कहा कि राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम पर प्रतिबंध लगाने का कमलनाथ सरकार का फैसला अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक हरकत है. बीजेपी अध्यक्ष ने सवाल किया कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी बताएं कि वंदे मातरम् के इस अपमान का निर्णय क्या उनका है?

 

अमित शाह ने कांग्रेस पर मध्यप्रदेश को तुष्टिकरण का केंद्र बनाने का आरोप लगाया. फेसबुक पर उन्होंने लिखा, "वंदे मातरम मात्र एक गीत भर नहीं होकर यह भारत की स्वतंत्रता आन्दोलन का प्रतीक और प्रत्येक भारतीय का प्रेरणाबिंदु है. वंदे मातरम में सम्पूर्ण भारत की रागात्मक अभिव्यक्ति समाहित है. वंदे मातरम पर प्रतिबन्ध लगाकर कांग्रेस ने न सिर्फ देश की स्वाधीनता के लिए वंदे मातरम का जय घोष गाकर अपना सर्वस्व अर्पण करने वाले वीर बलिदानियों का अपमान किया है, बल्कि यह मध्य प्रदेश की जनता के साथ भी विश्वासघात है. किसी भी प्रकार की राजनीतिक सोच में देश के बलिदानियों का अपमान करना मेरे जैसे एक आम भारतीय की द्रष्टि में देशद्रोह के समान है."

पढ़ें- अब यूपी में गाय के नाम पर वसूला जाएगा टैक्स, योगी सरकार ने लगाया 'गौ कल्याण सेस'

शाह ने लिखा कि मध्यप्रदेश सरकार के इस दुर्भाग्यपूर्ण निर्णय पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को देश की जनता के सामने अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए. इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस सरकार के इस निर्णय पर निशाना साधते हुए कहा था कि अगर कांग्रेस को राष्ट्रगीत गाने में शर्म आती है तो वह खुद सचिवालय में वंदे मातरम गाएंगे. 

पढ़ें- राफेल डील: जेटली का पलटवार- गांधी परिवार को पैसे का गणित समझ आता है, देश की सुरक्षा नहीं

दरअसल, मध्य प्रदेश की नई-नवेली कमलनाथ सरकार ने पूर्व की बीजेपी सरकार की 13 साल पुरानी परंपरा को खत्म करते हुए सचिवालय में महीने के पहले दिन वंदे मातरम गाने पर रोक लगा दी थी, इस महीने की पहली तारीख को वंदे मातरम गाया भी नहीं गया था. इससे पहले हर सप्ताह कैबिनेट मीटिंग से पहले सभी मंत्री और हर महीने की पहली तारीख को सचिवालय में सभी कर्मचारी और अधिकारी वंदे मातरम गाते थे. 

First published: 3 January 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी