Home » इंडिया » Madhya Pradesh Chief Minister Shivraj Singh expand his cabinet
 

मध्य प्रदेश: शिवराज ने किया कैबिनेट विस्तार, भड़के बाबूलाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2016, 18:12 IST

लंबी खींचतान के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है. शिवराज तीसरी बार 2013 में मुख्यमंत्री बने हैं. करीब ढाई साल बाद यह उनका पहला मंत्रिमंडल विस्तार है.

मंत्रिमंडल विस्तार में ओमप्रकाश धुर्वे, अर्चना चिटनिस और रुस्तम सिंह को कैबिनेट मंत्री बनाया गया. वहीं विश्वास सारंग, ललिता यादव, हर्ष सिंह, संजय पाठक, सूर्यप्रकाश मीणा और जयभान सिंह पवैया को राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया है.

गौर का इस्तीफा देने से इंकार

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाबू लाल गौर से केंद्रीय नेतृत्व और सीएम ने इस्तीफा मांगा है, लेकिन गौर ने इस्तीफा देने से साफ मना कर दिया है.

सूत्रों के अनुसार 86 वर्षीय बाबूलाल गौर ने कहा, 'मेरा क्या कसूर, नहीं दूंगा इस्तीफा चाहे मुझे बर्खास्त कर दो.' उनके अलावा कैबिनेट मंत्री सरताज सिंह से भी इस्तीफा देने को कहा गया है. सरताज सिंह इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं लेकिन वे भी पार्टी नेतृत्व से नाखुश हैं. उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने का पैमाना कामकाज होना चाहिए.

गौर को स्पीकर बनाने का प्रस्ताव

सीएम शिवराज मंत्रिमंडल में फेरबदल के सिलसिले में बुधवार को दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिल चुके हैं. शाह ने शिवराज से सरकार में शामिल उम्रदराज (75 वर्ष की उम्र से ज्यादा) मंत्रियों से इस्तीफा लेने को कहा. गुरुवार को प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे ने जब गौर को अमित शाह का फरमान सुनाया तो उन्होंने इस्तीफा देने से इंकार कर दिया.

सूत्रों के मुताबिक गौर ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से कहा, "मैं इस्तीफा नहीं दूंगा. मैं क्यों इस्तीफा दूं. यदि उम्र ही काम का पैमाना है, तो मुझे विधानसभा चुनाव में टिकट ही क्यों दिया था."

गौर की नाराजगी दूर करने के लिए केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें विधानसभा स्पीकर बनाए जाने का प्रस्ताव रखा है. हालांकि, गौर इसके लिए भी तैयार नहीं हुए हैं. खबर लिखे जाने गौर के इस्तीफे की कोई सूचना नहीं है.

First published: 30 June 2016, 18:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी