Home » इंडिया » Madhya Pradesh: Congress government suspended school teacher for alleged derogatory remarks against cm Kamalnath
 

महीनेभर की सत्ता में तानाशाही पर उतरी कमलनाथ सरकार, खिलाफ बोलने पर हेडमास्‍टर को किया सस्पेंड

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2019, 12:33 IST

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाए अभी महीनेभर भी नहीं हुए हैं लेकिन सरकार ने तानाशाही दिखानी शुरू कर दी है. राज्य के सीएम कमलनाथ के खिलाफ कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी करने की बात कहकर सरकारी स्‍कूल के एक टीचर को सस्‍पेंड कर दिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कमलनाथ सरकार ने हेडमास्टर के खिलाफ यह कदम सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो के आधार पर उठाया है. वीडियो में कथित तौर पर वह सीएम के खिलाफ आपत्तिजनक बातें कहते सुने जा रहे हैं. 

पढ़ें- 26 साल बाद पहली बार साथ प्रेस कांफ्रेंस करेंगे माया-अखिलेश, कल होगा सीटों का ऐलान

जबलपुर के सरकारी कनिष्‍ठ बुनियादी माध्‍यमिक स्‍कूल के प्रधानाचार्य मुकेश तिवारी का एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में वह स्‍कूल में शिक्षकों की समस्‍याओं पर एक बैठक के दौरान सीएम कमलनाथ के लिए कुछ शब्द इस्‍तेमाल करते सुने जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह की अगुवाई में बीजेपी के पिछले 15 वर्षों के कार्यकाल में भी शिक्षकों की समस्‍याओं का समाधान नहीं हुआ, अब देखना होगा कि कांग्रेस के कार्यकाल में क्‍या होता है. आगे उन्होंने कहा कि हमारे शिवराज जी चाहे जैसे हैं, लेकिन कमलनाथ डाकू हैं.

पढ़ें- CAG रिपोर्ट में हुआ खुलासा, शिवराज सरकार में हुई 8017 करोड़ रुपये की गड़बड़ी

हेडमास्टर की इसी टिप्‍पणी को आधार बनाकर कमलनाथ सरकार ने उन्हें सस्पेंड कर दिया. उन्हेें गुरुवार को सस्‍पेंड किया गया. जबलपुर जिलाधिकारी की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किया गया और कहा गया कि उन्‍हें प्रथम दृष्‍टया मध्‍य प्रदेश सिव‍िल सर्विसेज (कंडक्‍ट) रूल्स के उल्‍लंघन का दोषी पाया गया है.

सरकार के इस कदम के बाद कांग्रेस सरकार पर सवाल उठ रहे हैं और कहा जा रहा है कि वह अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता का उल्लंघन कर रही है. लोग कह रहे हैं कि जो सरकार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का रोना रोती थी वही आज अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के खिलाफ काम कर रही है.

First published: 11 January 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी