Home » इंडिया » Madhya Pradesh: DigVijay Singh wants to encircle BJP on the Vyapam scam upside down bets
 

मध्य प्रदेश: व्यापम घोटाले को लेकर BJP को घेरना चाहते थे दिग्विजय सिंह, उल्टा पड़ गया दांव

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 September 2018, 10:28 IST

मध्य प्रदेश से एक बहुत ही आश्चर्य करने वाली खबर सामने आई है. राज्य में पिछले दिनो चर्चित रहे व्यापम घोटाले को लेकर बीजेपी को घेरने का पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का दांव उल्टा पड़ गया. अब प्रदेश के कांग्रेस नेताओं के ख़िलाफ FIR दर्ज होगी. भोपाल जिला अदालत ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और प्रशांत पांडेय पर FIR दर्ज करने का आदेश दिया है.

पढ़ें- अमेरिका की मदद से पाकिस्तान गुपचुप करना चाहता था ये काम, भारत ने दिया बड़ा झटका

दरअसल,दिग्विजय सिंह ने भोपाल जिला अदालत में परिवाद दायर कर आरोप लगाया था कि व्यापम घोटाले में जांच एजेंसियां सीबीआई, एसटीएफ और एसआईटी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री उमा भारती और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को बचा रही हैं.

इसके खिलाफ भाजपा के विधि प्रकोष्ठ के पदाधिकारी संतोष शर्मा ने परिवाद दायर किया. संतोष शर्मा ने कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और प्रशांत पांडे के खिलाफ परिवाद पेश किया था.

पढ़ें- शहीद भगत सिंह ने फांसी की कोठरी में रहकर भी हिला दी थी अंग्रेज हुकूमत की नींव, ये हैं सबूत!

उनके परिवाद पर कोर्ट ने श्यामला हिल्स थाना पुलिस को कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और प्रशांत पांडे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर चार अक्तूबर को कोर्ट में रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने 4 अक्टूबर को एफआईआर की कॉपी पेश करने के लिए कहा है. 

कोर्ट ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने जो दस्तावेज पेश किए हैं वो झूठे हैं. कांग्रेस नेताओं पर IPC की धारा 420, 466, 468 सहित कई धाराओं में परिवाद लगाया गया था. बीजेपी ने कांग्रेस के इन नेताओं पर कोर्ट को गुमराह और झूठे दस्तावेज पेश करने का आरोप लगाया.

First published: 27 September 2018, 10:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी