Home » इंडिया » Madhya Pradesh: Freedom of religion bill 2020, 10 year jail on forced conversion
 

मध्य प्रदेश: BJP सरकार का बड़ा फैसला- जबरन कराया धर्म परिवर्तन तो होगी 10 साल की जेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 December 2020, 13:06 IST

Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. मध्य प्रदेश में अब जबरन धर्म परिवर्तन करवाने पर 10 साल की सजा हो सकती है. राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र ने बताया कि यदि कोई भी व्यक्ति किसी भी नाबालिग, महिला अथवा अनुसूचित जाति या जनजाति का जबरन धर्म परिवर्तन करवाता है तो उसे 10 साल की सजा हो सकती है.

गृह मंत्री ने बताया कि जबरन धर्म कराने वाले व्यक्ति को कम से कम 50 हजार रूपये तक का जुर्माना भी भरना पड़ सकता है. दरअसल, आज मध्य प्रदेश सरकार की कैबिनेट ने राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की अध्यक्षता में एक विशेष बैठक का आयोजन किया था. इस बैठक में मध्य प्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक 2020 (MP Freedom of Religion Bill 2020) को मंजूरी दी गई.

 

इस विधेयक के बाद राज्य के गृह मंत्री ने बताया कि राज्य में किसी भी तरह के जबरन धर्म परिवर्तन पर व्यक्ति को 1 से 5 साल तक की जेल तथा कम से कम 25,000 रुपये के जुर्माना का प्रावधान किया गया है. इसके आगे उन्होंने बताया कि यदि जबरन धर्म परिवर्तन किसी खास वर्ग यानि नाबालिग, महिला तथा SC/ST के सदस्यों के मामले में होता है तो जुर्माना तथा सजा दोगुनी हो जाएगी.

उन्होने कहा कि इसका मतलब यह है कि नाबालिग, किसी महिला या अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग के किसी सदस्य का जबरन धर्म परिवर्तिन करवाने पर न्यूनतम सजा 2 से 10 साल तथा न्यूनतम जुर्माना 50 हजार रुपये होगी. 

गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने वाले 150 से अधिक जवान पाए गए कोरोना पॉजिटिव, ब्रिटिश PM हैं मुख्य अतिथि

Year Ender 2020 : सबरीमाला मंदिर की आय 156 करोड़ रुपये से घटकर रह गई 9.09 करोड़

First published: 26 December 2020, 12:59 IST
 
अगली कहानी