Home » इंडिया » Madhya Pradesh: Kamalnath govt to health staff get for sterilisation or lose your job
 

कमलनाथ सरकार का फरमान- करानी पड़ेगी नसबंदी नहीं तो दे दी जाएगी नौकरी से छुट्टी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 February 2020, 13:14 IST

Sterilisation in Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने एक अजीबो-गरीब फरमान जारी किया है. मध्य प्रदेश सरकार के अंतर्गत आने वाले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने राज्य के स्वास्थ्य कर्मचारियों को फरमान जारी किया है कि कम से कम एक सदस्य की नसबंदी करानी पड़ेगी. फरमान में यह भी कहा गया है कि ऐसा नहीं किया तो उनको वीआरएस दिया जाएगा.

कमल नाथ सरकार ने पुरुष नसबंदी का लक्ष्य पूरा न होने पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के वेतन में कटौती और जबरन सेवानिवृत्ति देने का आदेश दिया है. फरमान में कहा गया है कि टारगेट पूरा ना करने पर 'नो पे, नो वर्क' के आधार और सैलरी भी नहीं दी जाएगी. दरअसल, सरकार ने परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के लिये पांच से दस पुरूषों की नसबंदी कराना अनिवार्य किया है.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सरकार ने कर्मचारियों के लिए हर महीने 5 से 10 पुरुषों का नसंबदी ऑपरेशन करवाना अनिवार्य कर दिया है. परिवार नियोजन अभियान के तहत जिलों को कुल आबादी के 0.6 फीसदी नसबंदी ऑपरेशन का टारगेट हर साल दिया जाता है.

इसका टारगेट पूरा न होने पर मिशन संचालक छवि भारद्धाज ने नाराजगी जताई. उन्होंने सभी कलेक्टर और सीएमएचओ को पत्र लिखकर कहा है कि प्रदेश में मात्र 0.5 प्रतिशत पुरुष नसबंदी की जा रही है. उन्होंने कहा कि विभाग के पुरुषकर्मियों को जागरूकता अभियान के तहत परिवार नियोजन का टारगेट दिया जाए.

इस पत्र के बाद सीएमएचओ ने एक पत्र जारी किया, उन्होंने कहा है कि टारगेट के तहत काम नहीं किया तो अनिवार्य सेवानिवृत्ति का प्रस्ताव भेजेंगे.

बात बिहार की: लांच होते ही प्रशांत किशोर का कार्यक्रम सुपर डुपर हिट, पहले दिन ही जुड़े लाखों लोग

'दो लाख नहीं दिए तो पूरा स्कूल उड़ा दूंगा' 10वीं के बच्चे ने दी धमकी, प्रशासन के उड़े होश

First published: 21 February 2020, 13:10 IST
 
अगली कहानी