Home » इंडिया » Madhya Pradesh: PM Modi inaugurates 1.75 lakh houses under PMAY, wishes people home
 

PMAY के तहत PM मोदी ने किया 1.75 लाख घरों का उद्घाटन, लोगों को दी गृह प्रवेश की शुभकामनाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2020, 13:01 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना(ग्रामीण) के अंतर्गत बने 1.75 लाख घरों के 'गृह प्रवेशम् कार्यक्रम' का उद्घाटन किया. इस कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौजूद रहे. इस दौरान अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा ''मध्य प्रदेश के पौने 2 लाख ऐसे परिवार, जिनका गृह-प्रवेश हो रहा है, उनको भी मैं बहुत बधाई देता हूं, इस बार आप सभी की दीवाली, आप सभी के त्योहारों की खुशियां कुछ और ही होंगी. कोरोना काल नहीं होता तो आज आपके जीवन की इतनी बड़ी खुशी में शामिल होने के लिए आपका प्रधानसेवक आपके बीच होता''.

पीएम मोदी ने कहा ''सामान्य तौर पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक घर बनाने में औसतन 125 दिन का समय लगता है. कोरोना के इस काल में पीएम आवास योजना के तहत घरों को सिर्फ 45 से 60 दिन में ही बनाकर तैयार कर दिया गया है. आपदा को अवसर में बदलने का ये बहुत ही उत्तम उदाहरण है.'' उन्होंने कहा ''कोरोना काल में तमाम रूकावटों के बीच भी देशभर में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 18 लाख घरों का काम पूरा किया गया है. उसमें 1.75 लाख घर अकेले मध्य प्रदेश में ही पूरे किए गए हैं.


इस दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा ''मुझे संतोष है कि पीएम गरीब कल्याण अभियान से मध्य प्रदेश सहित देश के अनेक राज्यों में करीब 23 हज़ार करोड़ रुपए के काम पूरे किए जा चुके हैं. उन्होंने कहा ''पीएम गरीब कल्याण अभियान के तहत घर तो बन ही रहे हैं, हर घर जल पहुंचाने का काम हो, आंगनबाड़ी और पंचायत के भवनों का निर्माण हो, पशुओं के लिए शेड बनाना हो, तालाब और कुएं बनाना हो, ग्रामीण सड़कों का काम हो, गांव के विकास से जुड़े ऐसे अनेक काम तेज़ी से किए गए हैं.''

उन्होंने कहा ''2014 में पुराने अनुभवों का अध्ययन करके, पहले पुरानी योजना में सुधार किया गया और फिर प्रधानमंत्री आवास योजना के रूप में बिल्कुल नई सोच के साथ योजना लागू की गई. इसमें लाभार्थी के चयन से लेकर गृह प्रवेश तक पारदर्शिता को प्राथमिकता दी गई.'' पीएम ने कहा कि पहले गरीब सरकार के पीछे दौड़ता था, अब सरकार लोगों के पास जा रही है. अब किसी की इच्छा के अनुसार लिस्ट में नाम जोड़ा या घटाया नहीं जा सकता. चयन से लेकर निर्माण तक वैज्ञानिक और पारदर्शी तरीका अपनाया जा रहा है.

NEP-2020: जिस भी भाषा में बच्चा आसानी से सीख सके, वही पढ़ाई की भाषा होनी चाहिए- PM मोदी

First published: 12 September 2020, 12:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी