Home » इंडिया » Madhya Pradesh Political Crisis: Digvijaya Singh detained in Bangalore to meet rebel congress MLA
 

बागी विधायकों से मिलने बेंगलूरू पहुंचे दिग्विजय सिंह को पुलिस ने हिरासत में लिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 March 2020, 9:05 IST

Madhya pradesh political crisis: मध्यप्रदेश में सियासी संकट जारी है, ऐसे में आज का दिन कमलनाथ (Kamal Nath) के लिए अहम साबित होने वाला है. दरअसल, आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में जल्द से जल्द शक्ति परीक्षण (Floor Test) कराने के मामले में सुनवाई करेगा. जिसके लिए कांग्रेस (Congress) अपने बागी विधायकों को मनाने में लगी है.

बेंगलूरू (Bengaluru) के होटल में ठहरे कांग्रेस के बागी विधायकों को मनाने के लिए दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) बेंगलूरू पहुंचे हैं. जहां पुलिस ने उन्हें पुलिस (Police) ने हिरासत में ले लिया गया है. दरअसल, कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह बेंगलूरू में पार्टी के बागी विधायकों को मनाने पहुंचे. जब उन्हें विधायकों से मिलने नहीं दिया गया तो वह रमादा होटल के बाहर ही धरने पर बैठ गए. उसके बाद पुलिस ने उन्हें हटाने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं माने उसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया.


बता दें कि रमादा होटल में कांग्रेस के 21 विधायक ठहरे हुए हैं. दिग्विजय सिंह का आरोप है कि पुलिस उन्हें विधायकों से मिलने नहीं दे रही. दिग्विजय सिंह ने कहा कि, मैं मध्यप्रदेश से राज्यसभा का उम्मीदवार हूं, 26 मार्च को मतदान होना है. मेरे विधायकों को यहां रखा गया है, वे मुझसे बात करना चाहते हैं, उनके फोन छीन लिए गए हैं, पुलिस मुझे यह बोलने नहीं दे रही है कि विधायकों के लिए सुरक्षा खतरा है.

गौरतलब है कि इससे पहले मंगलवार को बंगलूरू में मौजूद बागी कांग्रेसी विधायकों ने मीडिया से बातचीत की. जिसमें उन्होंने कहा कि वह कमलनाथ सरकार की कार्यशैली से खुश नहीं हैं. उनका कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया हमारे नेता हैं. हम भोपाल लौटने के लिए तैयार हैं लेकिन हमें केंद्रीय सुरक्षा दी जानी चाहिए.

बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम इसपर अभी विचार कर रहे हैं. उन्होंने अपने ऊपर बीजेपी द्वारा बंधक बनाए जाने पर कहा कि वह अपनी मर्जी से आए हैं. बागी विधायकों का कहना है कि, "हमें मजबूरी में साथ छोड़ना पड़ा. हम बंधक नहीं हैं, अपनी इच्छा से यहां आए हैं."

बेंगलूरू में ठहरे कांग्रेस विधायकों का कहना है कि, "जब सिंधिया पर हमला हो सकता है तो हम सुरक्षित कैसे हैं. हम सभी को केंद्रीय सुरक्षा मिलनी चाहिए. हम सभी ने मिलकर मध्यप्रदेश में सरकार बनाई थी. मुख्यमंत्री के पास हमारी बात सुनने का समय नहीं है." कांग्रेस के बागी विधायकों ने कहा कि हम बीजेपी में शामिल होने पर विचार कर रहे हैं. एमपी में मंत्रियों, विधायकों से शक्तिशाली अधिकारी हैं. हम लोगों को न्याय नहीं मिला है. राज्य को सबसे बड़ा माफिया चला रहे हैं.

दिल्ली आकर शपथ लेने दीजिये, फिर बताऊंगा क्यों जा रहा रहा हूं राज्यसभा: रंजन गोगोई

कोरोना वायरस के डर से थरथर कांपे दुनियाभर के रईस, बुक किए स्पेशल जेट और बंकर

'भारत में गर्मियों में ख़त्म हो जायेगा कोरोना वायरस'- ऐसा दावा करने पर डॉक्टर को नोटिस जारी

First published: 18 March 2020, 9:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी