Home » इंडिया » Mahad bridge collapse: Debris of bus found, rescue ops on
 

महाड़ पुल हादसा: बसों के मलबे को नेवी ने किया बरामद, खोज अभियान जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 August 2016, 15:42 IST
(फाइल फोटो)

पिछले हफ्ते महाराष्ट्र के महाड़ में सावित्री नदी पर बने ब्रिटिशकालीन पुल ढहने के 8 दिन बाद नेवी टीम ने नदी से बसों का मलबा बरामद किया है.

मुंबई गोवा हाइवे पर 2 अगस्त को यह पुल बह गया था. महाड़ पुल ढ़हने से दो बसें और दो कारें 2 अगस्त को लापता हो गई थी. जानकारी के मुताबिक गोताखोरों ने सावित्री नदी में महाड़ पुल ढहने की जगह से 200 मीटर दूर बसों का मलबा खोज निकाला है. 

अब तक 26 शव बरामद

वहीं खोजी और राहत अभियान में नदी से अब तक 26 शव निकाले जा चुके हैं, जबकि तकरीबन 16 अब भी लापता हैं और उनके मारे जाने का अंदेशा है.

लापता लोगों की तलाश के दौरान बचावकर्मियों को बुधवार को सावित्री नदी में पानी के तेज बहाव और मगरमच्छों की मौजूदगी का भी सामना करना पड़ा.

खोजी दलों ने तब तक अभियान जारी रखने का निर्णय लिया है, जब तक वे सभी शव और पानी में बही गाड़ियों के अवशेष बरामद नहीं कर लेते हैं.

हाईकोर्ट में जनहित याचिका

दूसरी तरफ महाड पुल हादसे के लिए जिम्मेदार सरकारी अधिकारियों और भारतीय राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई है.

सामाजिक कार्यकर्ता प्रणय सावंत ने याचिका में मुख्य रुप से पुल का स्ट्रक्चरल ऑडिट करनेवाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

गौरतलब है कि दो अगस्त को महाराष्ट्र के रायगढ़ में मुंबई-गोवा हाईवे पर बना पुल सावित्री नदी में बह गया था जिसमें दो बसें और दो कारें लापता हो गई थी. नौसेना की टीम चार अगस्त की सुबह से लापता लोगों और वाहनों के मलबे की तलाश में लगी हुई है.

First published: 11 August 2016, 15:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी