Home » इंडिया » maharashtra govt rejected kejriwal offer of water for drought affected latur
 

लातूर को पानी भेजने की केजरीवाल की पेशकश महाराष्ट्र ने ठुकराई

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2016, 13:17 IST

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त लातूर को दिल्ली की तरफ से दस लाख लीटर पानी भेजने का प्रस्ताव दिया है. जिसे महाराष्ट्र सरकार ने अस्वीकार कर दिया है.

इसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, " हमने लातूर की जनता को अपनी मदद भेजने की कोशिश की थी, लेकिन महाराष्ट्र सरकार ने इसके लिए मना कर दिया है, तो हम क्या कर सकते हैं." 

केजरीवाल के प्रस्ताव को महाराष्ट्र सरकार की ओर से खारिज किये जाने के बाद दिल्ली सरकार के जल मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा, "मुख्यमंत्री ने पीएम की प्रशंसा करते हुए चिट्ठी लिखी है. इसलिए हमें उनके जवाब का इंतज़ार है और क्योंकि महाराष्ट्र को चिट्ठी नहीं लिखी है, इसलिए मोदी जी ही इस बारे में फैसला लेने के लिए सही शख्स हैं. "

arvind-latter

दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने इस मामले में ट्वीट किया था कि लातूर में भारी जल संकट है. हम सभी को मिलकर वहां के लोगों की सहायता करनी चाहिए. केजरीवाल ने कहा था कि उनकी सरकार लातूर के लोगों के लिए दिल्ली से 2 महीने के लिए लगभग 10 लाख लीटर पानी हर रोज देने को तैयार है. 

arvind-latter-water

वहीं दिल्ली सरकार के इस फैसले की आलोचना भी हो रही है. सवाल उठ रहा है कि जब दिल्ली खुद पानी के संकट से जूझ रही है, तो वो कैसे इस तरह का निर्णय कर सकती है. दिल्ली के तमाम इलाकों में पीने के पानी की सप्लाई सही तरह से नहीं हो पा रही है.

दिल्ली के पहाड़गंज, सदर बाज़ार, नरेला, बुराड़ी, संगम विहार, तुग़लकाबाद, देवली, जामिया, मुनिरका, शाहदरा, दिलशाद गार्डन, करावल नगर, भजनपुरा, द्वारका, राजा गार्डन, नजफगढ़ और पालम में लोगों को रोज पानी की समस्या से दो-चार होना पड़ रहा है.

अब इसे पानी पर सियासत ही कहेंगे कि जब दिल्ली के जल मंत्री कपिल मिश्रा से पूछा गया कि दिल्ली के लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पा रहा है, फिर सरकार किस तरह से दूसरे राज्य को पानी भेजने की सोच सकती है.

इस कपिल मिश्रा ने जवाब दिया, " ये बात सही है कि दिल्ली में कुछ जगह पर जल आपूर्ति में समस्या है. दिल्ली सरकार रोजाना 340 करोड़ लीटर पानी साफ करती है, जिसमें से हमने 10 लाख लीटर देने का प्रस्ताव दिया है." साथ ही मिश्रा ने ये भी दलील दी कि जरूरी नहीं कि जब हमारा पेट भरा हो, तभी हम दूसरे के विषय में सोचें.

वही दिल्ली सरकार की इस पहल पर महाराष्ट्र के सिंचाई मंत्री का कहना है कि लातूर की पानी की आवश्यकता को पूरा करने के लिए हमारे पास समुचित इंतजाम हैं. इसलिए हमें वर्तमान में किसी दूसरे राज्य की मदद की जरूरत नहीं है.

First published: 13 April 2016, 13:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी