Home » इंडिया » maharashtra: minister pankaja munde took-selfies on drought latur
 

पंकजा मुंडे की 'लातूर सेल्फी यात्रा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 April 2016, 14:30 IST

महाराष्ट्र का मराठवाड़ा इलाका भयंकर सूखे की मार झेल रहा है. पानी के संकट से लोग परेशान हैं. वहीं राज्य की ग्रामीण विकास और जल संरक्षण मंत्री पंकजा मुंडे लातूर में सेल्फी खींचने में व्यस्त दिखीं.

मंत्री पंकजा मुंडे के सूखाग्रस्‍त मराठवाड़ा इलाके में दौरे के लिए बने अस्‍थाई हेलीपैड पर भी सवाल उठे थे. इसके लिए 10 हजार लीटर पानी का इस्तेमाल हुआ.

बताया जा रहा है कि मंत्री पंकजा मुंडे मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सूखे के हालात का जायजा लेने लातूर गई थीं. लेकिन इस दौरान वो सेल्फी खींचती नजर आईं. जिससे मंत्री जी के दौरे की गंभीरता पर सवाल उठ रहे हैं.

पढ़ें:5 लाख लीटर पानी के साथ लातूर पहुंची राहत की रेल

कुछ दिनो पहले ही लातूर में सूखे की गंभीर स्थिति को देखते हुए सरकार ने विशेष ट्रेन के ज़रिए पानी पहुंचाया है. इस पानी को जनता तक पहुंचाने के लिए पाइपलाइन का काम चल रहा है.

पंकजा मुंडे इसी काम को देखने के लिए लातूर गई थीं. यहां बन रहे बैराज पर मुंडे ने अपनी फोटो खींची और उसे ट्वीट कर दिया. इसके बाद से पंकजा विपक्ष के निशाने पर हैं.

latoor2

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, " पंकजा अभी नई-नई मंत्री बनी हैं. पहले भी जब महाराष्ट्र में सूखा पड़ा था तब वो विदेश यात्रा कर रही थी. सूखे पर मंत्री जी सस्ती राजनीति कर रही हैं. "

सुरजेवाला ने कहा कि सेल्फी लेने की बजाय उन्हें किसानों के आंसू पोंछने चाहिए और सूखे की वजह से जान गंवाने वालों के परिजनों को राहत देने की कोशिश करनी चाहिए.

पढ़ें:पानी को लेकर लातूर में बनी युद्ध जैसी स्थिति

वहीं लातूर के लोगों का कहना है कि महाराष्ट्र सरकार का कोई मंत्री उनकी समस्याओं को लेकर गंभीर नहीं है.

latoor1

विवाद के बाद पंकजा मुंडे ने ट्विटर पर अपनी सफाई में कहा, " मेरे जानकार दोस्त, मैं विभाग की मुखिया होने के नाते मौके पर हालात को देखने के लिए गई थी. " 

पंकजा ने ट्वीट में आगे लिखा कि उनके साथ मौजूद वरिष्ठ अधिकारी कई जगहों पर गए लेकिन हमें कहीं पानी नहीं मिला. उस जगह हमें पानी मिला इसलिए हमें थोड़ी तसल्ली हुई.

latoor3

इसके अलावा मुंडे ने ट्विटर पर ये भी लिखा है कि तस्वीरें सरकार और जनता की भागीदारी से हुए काम की हैं. ये मेरा विभाग है और मैं पहले दिन से काम कर रही थी. मौके पर काम हुआ देख मुझे थोड़ी संतुष्टि हुई.

पढ़ें:लातूर को पानी भेजने की केजरीवाल की पेशकश महाराष्ट्र ने ठुकराई

First published: 18 April 2016, 14:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी