Home » इंडिया » Maharashtra: Uddhav Thackeray difficulties for electoral affidavit if anything wrong found then jail
 

चुनावी हलफनामे को लेकर उद्धव ठाकरे की बढ़ी मुश्किलें, गड़बड़ी मिलने पर हो सकती है जेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 September 2020, 12:02 IST

Maharashtra: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके बेट आदित्य ठाकरे की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. उनके चुनावी हलफनामे में गड़बड़ी के आरोप लग रहे हैं. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य ठाकरे के अलावा एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले की भी मुश्किलें बढ़ गई हैं. चुनाव आयोग ने इन सभी नेताओं पर हलफनामे में संपत्ति और देनदारी की गलत जानकारी देने का आरोप लगाया है.

चुनाव आयोग ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच सीबीडीटी को सौंपी है. महाराष्ट्र के इन नेताओं के अलावा चुनाव आयोग ने गुजरात के विधायक नाथाभाई ए पटेल के खिलाफ भी  हलफनामें में गलत जानकारी देने की शिकायत कराई है. 

इन नेताओं पर आरोप है कि चुनाव के समय आयोग को इन्होंने जो हलफनामा दिया है उसमें गलत जानकारियां भरी हैं. इसके अलावा कई जानकारियां अधूरी दी गई हैं. जानकारी के मुताबिक, अपने दावे के समर्थन में शिकायतकर्ताओं ने कुछ दस्तावेज सौंपे हैं. इन दस्तावेजों से पता चलता है कि चुनावी हलफनामे में उपरोक्त नेताओं ने गलत जानकारी दी है.ॉ

Monsoon Session : हंगामे के बीच राज्यसभा में सरकार ने पेश किया कृषि विधेयक, पढ़िए किसने क्या कहा

चुनाव आयोद ने इन दस्तावेजों को देखकर इसकी जांच सीबीडीटी के पास भेजी है. अब सीबीडीटी की जांच का इंतजार है. यदि इन नेताओं पर लगे आरोप सही पाए गए तो रिप्रजेटेंशन ऑफ पीपल एक्ट की धारा 125 ए के तहत इस मामले में सीबीडीटी केस दर्ज कर सकती है. अगर आरोप सच साबित हुआ तो इन नेताओं को अधिकतम 6 महीने की जेल हो सकती है.

बता दें कि चुनाव में खड़े होने वाले उम्मीदवारों को चुनाव से पहले चुनाव आयोग के सामने अपनी सभी जानकारी देनी होती है. इसमें उम्मीदवार की संपत्ति, देनदारी, आपराधिक पृष्ठभूमि और शैक्षिक योग्यता का ब्यौरा सबसे मुख्य होता है. 

खौफनाक: 5 बेटी के पिता ने लड़की है या लड़का पता लगाने के लिए काट डाला गर्भवती पत्नी का पेट

Coronavirus Update: पिछले हफ्ते कोरोना ने भारत में मचाई तबाही, जानिए एक हफ्ते में आये कितने मामले

First published: 20 September 2020, 11:59 IST
 
अगली कहानी