Home » इंडिया » Mahatma Gandhi is close to the heart of every Indian Gandhi's photograph is printed on the currency of the country
 

RBI ने महात्मा गांधी को नोट पर क्यों छापा, RTI से हुआ ये खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 October 2018, 15:11 IST

महात्मा गांधी को पूरी दुनिया अहिंसा के पुजारी के रूप में जानती है. महात्मा गांधी ने अहिंसा के दम पर देश को आजाद कर दिखाया. हरेक भारतीय के दिल के करीब हैं बापू. देश की करेंसी पर यानि भारतीय करेंसी के नोट में गांधी की फोटो छापी जाती है जिससे घर-घर में गांधी को सहेज कर रखा जाने लगा. आज हम गांधी के नोटों पर छपने के कहानियों की चर्चा करेंगे और जानेंगे कि नोट पर छपने वाली फोटो का क्या राज है.

पहली बार साल 1969 में गांधी की तस्वीर नोट पर छापी गई थी. इस साल बापू का जन्म शताब्दी साल था और नोटों पर उनकी तस्वीर के पीछे सेवाग्राम आश्रम भी छपा था. अक्टूबर 1987 में पहली बार 500 रुपये का नोट आया और उस पर गांधी की फोटो छपी थी.

RBI (भारतीय रिजर्व बैंक) के मुताबिक वर्ष 1996 में महात्मा गांधी की तस्वीर वाले नोट आम चलन में आए थे. उसके बाद 5, 10, 20, 100, 500 और 1000 रुपये वाले नोट छापे गए इसमें अशोक स्तंभ के स्थान पर महात्मा गांधी का फोटो और अशोक स्तंभ की फोटो नोट के बायीं तरफ निचले हिस्से पर प्रिंट की गई थी.

नोट पर छपने वाली फोटो का राज

दरअसल नोट पर छपने वाली महात्मा गांधी की तस्वीर साल 1946 में खींची गई थी और यह बापू की असली तस्वीर है. यह फोटो उस समय की है जब वो जब लार्ड फ्रेडरिक पेथिक लॉरेंस विक्ट्री हाउस में आए थे.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में लोकसभा में इसका जवाब दिया था कि RBI पैनल ने गांधी के जगह पर अन्य राष्ट्रीय नेता की तस्वीर ना छापने का फैसला किया है, क्योंकि महात्मा गांधी से ज्यादा कोई भी व्यक्ति देश की प्रकृति का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता. भारत विभिन्नताओं में एकता वाला देश है और महात्मा गांधी को राष्ट्रीय प्रतीक के रुप में माना जाता है. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पूरे राष्ट्र का चेहरा हैं, इसलिए उनके नाम पर फैसला लिया गया.

इससे पहले 1987 में महात्मा गांधी की तस्वीर को नोटों पर वाटरमार्क के रुप में इस्तेमाल किया जाता था. बाद में प्रत्येक नोट में गांधी जी की तस्वीर प्रिंट होने लगी. आरटीआई में खुलासा हुआ है कि वर्ष 1993 में भारतीय रिजर्व बैंक ने नोट के दाहिनी तरफ गांधी का फोटो छापने की सिफारिश केंद्र सरकार से की थी.

First published: 2 October 2018, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी