Home » इंडिया » Mahbooba Mufti NIT Row
 

महबूबा मुफ्ती: एनआईटी विवाद को सांप्रदायिक रंग दिया जा रहा है

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2016, 13:34 IST

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में स्थित राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) में कश्मीरी और बाहरी छात्रों के बीच जारी विवाद को लेकर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने चुप्पी तोड़ी है.

महबूबा मुफ्ती का कहना है कि एनआईटी में दो छात्र समूहों के बीच 'छिट-पुट' तनाव को सांप्रदायिक रंग दिया जा रहा है, जबकि यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं है.

राष्ट्रवाद पर सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं: जम्मू-कश्मीर पुलिस

महबूबा ने यह भी कहा कि उन्होंने इस बारे में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी से भी बात की है और उन्हें घटना की विस्तृत जानकारी और इस मामले में हुई प्रगति के बारे में बताया.

गैर-स्थानीय छात्रों की राज्य के बाहर के कॉलेजों में पढ़ने की इच्छा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि 'बहुत कम छात्र ऐसा चाहते हैं.'

मुख्यमंत्री ने इस मामले में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के बयान को भी सराहा, जिन्होंने स्थानीय छात्रों से गैर-स्थानीय छात्रों की हिफाजत करने और एनआईटी में शांति बनाए रखने की अपील की.

क्या है मामला

एनआईटी कैंपस में पिछले एक हफ्ते से छात्रों के दो गुटों के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है. 31 मार्च को भारत और वेस्टइंडीज के बीच क्रिकेट मैच के दौरान स्थानीय छात्रों ने कैरेबियाई टीम की जीत का जश्न मनाया था, इसको लेकर छात्रों के दो गुटों के बीच झगड़ा हो गया. विरोध में छात्रों का एक गुट भारत माता की जय के नारे लगाने लगा.

श्रीनगर एनआईटी में छात्रों पर लाठीचार्ज, कैंपस में सीआरपीएफ तैनात

विवाद बढ़ता देख कैंपस को सोमवार तक के लिए बंद कर दिया गया था. कैंपस खुलने के बाद मंगलवार को बाहरी लोगों ने बड़ी संख्या में मार्च निकालने की कोशिश की जिसे पुलिस ने कैंपस के मेन गेट पर रोक दिया था.

इसके बाद प्रदर्शनकारी छात्रों और पुलिस के बीच झड़प हो गई. उत्तेजित छात्रों पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया. लाठीचार्ज में कम से कम 12 छात्र जख्मी हुए हैं.

मंगलवार को हुई लाठीचार्ज की घटना के बाद कैंपस में स्थानीय पुलिस को हटाकर केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवानों को तैनात किया गया था.

First published: 9 April 2016, 13:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी