Home » इंडिया » Major Iqbal asked me to recruit Indian soldiers who can act as spies for ISI: Headley
 

हेडली की गवाही: मैं आईएसआई के लिए जासूसी करता था

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2016, 13:14 IST

लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी डेविड कोलमैन हेडली ने मंगलवार को बताया कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने उसे जासूसी करने के लिए भारतीय जवानों की भर्ती करने के लिए कहा था.

मुंबई सेशन कोर्ट के स्पेशल जज जीए सनप के सामने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लगातार दूसरे दिन पेश हुए हेडली ने कई अहम खुलासे किए.

मुंबई हमला: डेविड कोलमैन हेडली के 5 अहम खुलासे

हेडली के अनुसार वह लश्कर-ए-तैयबा के अलावा आईएसआई के लिए भी काम करता था. उसने बताया, 'मैं वर्ष 2006 की शुरुआत में आईएसआई के मेजर इकबाल से लाहौर में मिला था. उन्होंने मुझे भारत की खुफिया सैन्य जानकारी एकत्र करने के लिए कहा था और जासूसी के लिए भारतीय सेना से भी किसी को नियुक्त करने के लिए कहा था.'

मुंबई हमले की योजना 2007 में बनी

मुंबई हमले के दोषी हेडली ने बताया कि वर्ष 2007 के नवंबर और दिसंबर में लश्कर-ए-तैयबा ने मुजफ्फराबाद में एक बैठक की थी. इसमें साजिद मीर और अबु काहसा ने शिरकत की थी. इस बैठक में यह तय हुआ था कि आतंकी हमले मुंबई पर बोले जाएंगे.

मुंबई हमला: क्या हेडली के खुलासे से हाफिज सईद पर कसेगा शिकंजा?

हेडली ने कहा कि लश्कर-ए-तैयबा ने ताज होटल में भारतीय रक्षा वैज्ञानिकों पर हमला बोलने की योजना बनाई थी. उसने कहा,  'जकी-उर-रहमान लखवी पाकिस्तान में लश्कर का ऑपरेशनल कमांडर था और उसी के इशारे पर भारत में आतंकी हमले हुए.'

हेडली ने बताया कि हरकत-उल-मुजाहिदीन, लश्कर, हिजबुल मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन यूनाइटेड जिहाद काउंसिल का हिस्सा हैं और ये सभी आतंकी संगठन हैं.

First published: 9 February 2016, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी