Home » इंडिया » Malaysia PM Mahathir Bin Mohamad refuse to extradition of Zakir Naik to India
 

भारत को बड़ा झटका, मलेशियाई PM ने जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण से किया इनकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 July 2018, 15:22 IST

भारत को बड़ा झटका देते हुए मलेशियाई सरकार ने विवादित धर्मगुरु जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण से इनकार कर दिया है. मलयेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने शुक्रवार को कहा कि नाईक को भारत नहीं भेजा जाएगा. मोहम्मद ने दो टूक कहा कि जब तक जाकिर हमारे देश में कोई दिक्कत खड़ी नहीं कर रहे हैं तब तक हम उन्हें प्रत्यर्पित नहीं करेंगे. क्योंकि जाकिर को मलेशिया की नागरिकता प्राप्त है.

गौरतलब है कि जाकिर नाईक काफी समय से मलयेशिया में शरण लेकर रह रहा है. जाकिर को मलेशिया की नागरिकता प्राप्त है. भारत और मलेशिया के बीच आतंकवाद से निपटने को लेकर बढ़ते सहयोग के बावजूद नाईक मलेशिया में शरण पाने में सफल रहा था. हालांकि प्रधानमंत्री मोदी की 31 मई के दौरे के बाद नाईक की मुश्किलें बढ़ गई थीं.

लेकिन अब मलेशिया के प्रधानमंत्री ने स्पष्ट कर दिया है कि वह नाईक को वापस भारत नहीं लौटाएंगे. इससे पहले भी कई बार नाईक ने भारत लौटने से इनकार किया है. 

 

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग मामले में एनआईए ने विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की हुई है. 51 वर्षीय जाकिर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग और आतंक के मामले में एनआईए जांच चल रही है. 

नाईक ने जुलाई 2016 में तब भारत छोड़ा था जब बांग्लादेश में मौजूद आतंकियों ने दावा किया था कि वे जाकिर के भाषणों से प्रेरित हो रहे हैं. एनआईए ने तब मुंबई में आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत 18 नवंबर, 2016 को जाकिर के खिलाफ केस दर्ज किया था. 

पढ़ें- जन्मदिन विशेष: कश्मीर में धारा 370 के सबसे मुखर विरोधी थे श्यामा प्रसाद मुखर्जी, हुई थी रहस्यमयी मौत

नाइक के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज है. जाकिर पर IRF की धारा 10 UA (P) और IPC की 120B, 153A, 295A, 298 and 505(2) धाराएं लगाई गई हैं. 

First published: 6 July 2018, 15:22 IST
 
अगली कहानी