Home » इंडिया » Mamata Banerjee lashes out at Narendra Modi again, this time over Aadhar
 

अब आधार कार्ड और कर्ज को लेकर नरेंद्र मोदी पर बरसी ममता

सुलग्ना सेनगुप्ता | Updated on: 28 August 2016, 8:55 IST
QUICK PILL
  • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर हमला बोला है. इस बार ममता ने आधार कार्ड को लेकर नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है.
  • शुक्रवार को उन्होंने प्रधानमंत्री को चेतावनी देेते हुए कहा कि अगर आधार, कर्ज भुगतान पर रोक आैर राज्यों के मामले में केंद्र सरकार के हस्तक्षेप पर रोक नहीं लगाई गई तो वह बंगाल आैैर अन्य राज्यों के छात्रों को लेकर दिल्ली के राजपथ पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगी.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर हमला बोला है. इस बार ममता ने आधार कार्ड को लेकर नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. शुक्रवार कोे उन्होंने प्रधानमंत्री को चेतावनी देेते हुए कहा कि अगर आधार, कर्ज भुगतान पर रोक आैर राज्यों के मामले में केंद्र सरकार के हस्तक्षेप पर रोक नहीं लगाई गई तो वह बंगाल आैर अन्य राज्यों के छात्रों को लेकर दिल्ली के राजपथ पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगी.

आधार को लेकर विपक्षी दल आैर बीजेपी नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की लड़ाई पुरानी है. वास्तव में जब सरकार ने आधार बिल को मनी बिल की शक्ल में 11 मार्च को लोकसभा में पेश किया तो तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने इसके खिलाफ वॉकअाउट किया था.

उनके साथ समाजवादी, बहुजन समाज पार्टी, जेडीयू, एनसीपी आैर कांग्रेस के सदस्यों ने भी इस बिल के विरोध में सदन में वॉकआउट किया. पार्टियों के बीच इस बिल को मनी बिल बनाकर पेश किए जाने को लेकर मतभेद था. आधार कार्ड को लेकर विपक्षी दलों आैर केंद्र सरकार के बीच शुरू से ही मतभेद रहे हैं. बीजेपी नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने आधार बिल को मनी बिल बनाकर संसद में पेश किया था.

बनर्जी तृणमूल कांग्रेस की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रही थी. उन्होंने कहा, 'कई गरीब छात्रों को केंद्रीय छात्रवृत्ति नहीं मिल रही है क्योंकि उनके पास आधार कार्ड नहीं है. अगर केंद्र सरकार छात्रों की मांग को पूरा नहीं करता है तो मैं दिल्ली की सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करूंगी. मैं कुछ अन्य मुख्यमंत्रियों को भी इस मामले में सहयोग देने के लिए कहूंगी.'

मोदी की आलोचना करते हुए बनर्जी ने कहा, 'केंद्र सरकार ने केंद्र की सभी योजनाआें का लाभ लेने के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य बना दिया है. अब अधिकांश छात्रों के पास आधार कार्ड नहीं है आैर इस वजह से उन्हें योजनाआें का लाभ नहीं मिल पा रहा है. अभी भी बड़ी संख्या में लोगों को आधार कार्ड मिलना बाकी है. इन कार्ड की वजह से बचे पैसे का मोदी जी क्या इस्तेमाल करेंगे? क्या वह अपने लिए दूसरा कोट सिलाएंगे आैर फिर गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज कराएंगे.'

यूआइडीएआइ से अपील करेगी राज्य सरकार

बनर्जी सरकार ने यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथाॅरिटी आॅफ इंडिया से आैर अधिक संख्या में कैंप लगाने की अपील करेगी ताकि लोगों को आधार कार्ड बनाने में देरी का सामना नहीं करना पड़े. राज्य के मुख्य सचिव बासुदेब बनर्जी ने कहा, 'हम यूएडीएआइ के अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं ताकि आधार कार्ड को तेजी से जारी करने की दिशाा में समुचित कदम उठाया जा सके.' 

बुधवार को पश्चिम बंगाल के गृह सचिव आैर मुख्य सचिव के साथ यूआइडीएआइ के अधिकारियों की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग हुइ. यूआइडीएआइ के अधिकारियों से इस काम में तेजी लाने के लिए कहा गया. 

यह भी तय किया गया कि इस प्रक्रिया को तीन महीने के भीतर पूरा कर लिया जाए. यूआइडीएआइ के अधिकारी मासिक रिपोर्ट भेजकर यह बताएंगे कि उन्होंने महीने में कितने कैंप लगाए आैर साथ ही वह आधार कार्ड के बारे में भी जानकारी देंगे. जिला अधिकारी इस रिपोर्ट की वैधता जांच करेंगे आैर फिर इसे गृह सचिव को भेजा जाएगा. 

फिलहाल यूआइडीएआइ ने राज्य में 1,700 कैंप लगाए हैं. राज्य सरकार ने अधिकारियों से महीने भर के भीतर 2,000 कैंप लगाने के लिए कहा है ताकि इस पूरी प्रक्रिया को तीन महीने के भीतर निपटाया जा सके. समय से पीछे चल रहे सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 8.22 करोड़ लोग बायोमैट्रिक पंजीकरण के लिए योग्य है. 

अभी तक इसमें से 50 फीसदी लोगों को कार्ड भेजा जा चुका है. वहीं करीब 20 फीसदी लोगों कार्ड अभी तक नहीं पहुंचा है. बंगाल आधार कार्ड के मामले में पंजाब आैर केरल से भी पीछे है. 

हालांकि असम आैर पूर्वोत्तर के राज्यों के मुकाबले बंगाल की स्थिति अच्छी है. बंगाल, बांकुरा आैर पुरुलिया में 30 आैर 50 फीसदी लोगों का पंजीकरण किया जा चुका है. यह नेशनल आैसत से भी कम है जो 65 फीसदी है. उत्तरी दीनापुर आैर उत्तर 24 परगना में 50 आैर 55 फीसदी पंजीकरण किया जा चुका है. 

वहीं कोलकाता, हावड़ा आैर कूच बिहार में यह प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है. यूआइडीएआइ का दावा है कि बंगाल में 9.12 करोेड़ लोगों में से करीब 7.58 करोड़ लोगों का पंजीकरण किया जा चुका है.

बीजेपी की प्रतिक्रिया

इस बीच बीजेपी के नेताआें ने बनर्जी पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने बिना किसी तर्क के केंद्र सरकार की आलोचना की है. बीजेेपी के नेशनल सचिव राहुल सिन्हा ने कहा, 'हमारे प्रधानमंत्री देश के सभी नागरिकों को आधाार देने के लिए प्रतिबद्घ हैं. इसी के मुताबिक योजना भी बनाई जा रही है.'

First published: 28 August 2016, 8:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी