Home » इंडिया » Mamata instructs TMC to launch 3-pronged attack to fight rise of BJP-RSS
 

आरएसएस-भाजपा के उभार के खिलाफ ममता की 'ट्रिपल थ्योरी'

सुलग्ना सेनगुप्ता | Updated on: 25 October 2016, 0:09 IST
QUICK PILL
  • बीते दिनों दशहरा और मुहर्रम के मौके पर पश्चिम बंगाल के अलग-अलग हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव की घटनाएं हुई हैं. 
  • तृणमूल कांग्रेस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसके लिए भाजपा के उभार को ज़िम्मेदार ठहराते हुए नई रणनीति बनाई है. 

पश्चिम बंगाल में बढ़ते साम्प्रदायिक तनाव से निपटने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक नई रणनीति पर काम कर रही हैं. कालीघाट स्थित मुख्यमंत्री आवास पर 22 अक्टूबर को हुई बैठक में उन्होंने तय किया है कि संसद में जब विधेयकों को पारित होने के लिए रखा जाएगा, उस समय तृणमूल कांग्रेस भाजपा के खिलाफ मुखर होगी.

अकेले दम पर संघर्ष

तृणमूल सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे भाजपा के खिलाफ संघर्ष में अपनी जी और जान एक कर दें. नई रणनीति के तहत पार्टी के सांसद भाजपा के कथित गलत कामों को लेकर संसद में हमले तेज़ करेंगे.

पार्टी भाजपा के सभी अनुचित कामों को उजागर करने के लिए एक बुकलेट भी छपाएगी जिसमें राज्य को केंद्रीय फंड से वंचित करने, संघीय ढ़ांचे में दखलंदाजी और राज्य में असहिष्णुता का माहौल पैदा किए जाने की जानकारी होगी. पार्टी की चिन्ताओं में अयोध्या में राम मंदिर बनाए जाने को लेकर आगे बढ़ने का मुद्दा भी शामिल होगा.

राज्य सरकार 3 नवम्बर से 11 नवम्बर तक नुक्कड़ सभाएं करेगी ताकि भाजपा सौहार्द के जिस माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रही है, उसके खिलाफ जनता को जागरूक किया जा सके. सांसद सुदीप बंधोपाध्याय कहते हैं कि केन्द्र सरकार भाजपा की राज्य इकाई को सभी तरह की मदद दे रही है. 

यह हैरतअंगेज़ है कि राज्य में जयश्रीराम के नारे लगाए जा रहे हैं....राम मंदिर मुद्दा फिर उभारा जा रहा है. तृणमूल के सांसद सुगाथा रॉय को बुकलेट तैयार करने वाली उप-समिति का चेय़रमैन बनाया गया है.

First published: 25 October 2016, 0:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी